मुझसे परामर्श किए बिना कुणाल कामरा पर कंपनी की कार्रवाई से दुखी हूं : इंडिगो कैप्टन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 31, 2020   09:47
मुझसे परामर्श किए बिना कुणाल कामरा पर कंपनी की कार्रवाई से दुखी हूं : इंडिगो कैप्टन

इंडिगो प्रबंधन को लिखी चिट्ठी में रोहित मातेती ने कहा कि केवल सोशल मीडिया की रिपोर्ट के आधार पर कामरा पर कंपनी के विमानों में उड़ान भरने संबंधी रोक से दुखी हूं। हालांकि, यह घटना अरुचिकर थी लेकिन ऐसी कार्रवाई के लायक नही थी।

नयी दिल्ली। इंडिगो के जिस विमान में पत्रकार अर्णब गोस्वामी के साथ हास्य कलाकार कुणाल कामरा ने कथित तौर पर अभद्र व्यवहार किया था , अब उस विमान के कप्तान ने कहा कि कामरा पर छह महीने की रोक लगाने से पहले उनसे परामर्श नहीं लिया गया। उन्होंने कहा कि यह घटना किसी भी सूरत में दर्ज करने योग्य नहीं थी। 

इसे भी पढ़ें: हो जाए टेंशन फ्री! MoneyTap के जरिए अब आसानी से मिल सकता है लोन

इंडिगो प्रबंधन को लिखी चिट्ठी में रोहित मातेती ने कहा कि केवल सोशल मीडिया की रिपोर्ट के आधार पर कामरा पर कंपनी के विमानों में उड़ान भरने संबंधी रोक से दुखी हूं। हालांकि, यह घटना अरुचिकर थी लेकिन ऐसी कार्रवाई के लायक नही थी। उल्लेखनीय है कि मंगलवार को मुंबई-लखनऊ की उड़ान में अर्णब गोस्वामी को परेशान करने की घटना सामने आने के बाद इंडिगो ने कमरा पर छह महीने का प्रतिबंध लगा दिया। इसी तरह के प्रतिबंध स्पाइसजेट, गो एयर और एयर इंडिया ने भी लगाया है। हालांकि, पांबदी की समयसीमा स्पष्ट नहीं की है। 

पायलट इन कमांड ने कंपनी को भेजे ई-मेल में कहा, ‘‘ 28 जनवरी को मुंबई्-लखनऊ उड़ान संख्या 6ई5317 का कप्तान होने के नाते मैंने... किसी भी हाल में घटना को दर्ज करने लायक नहीं पाया। मान्यवर कामरा का व्यवहार नीरस था लेकिन यह ‘‘उपद्रवी यात्रियों की प्रथम श्रेणी ’’में नहीं आता। पायलटों ने इसी तरह की घटना या इससे भी खराब घटना की जानकारी दी जिसे उपद्रव वाली प्रवृत्ति नहीं माना गया।’’ पायलट ने कामरा के खिलाफ विमानन कंपनी की कार्रवाई को अनोखी घटना करार दिया है। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।