देश का प्रधानमंत्री झूठ बोलता है तो हम सबको शर्म आती है, झूठ की भी एक सीमा होती है- जीतू पटवारी

Prime Minister of the country lies
दिनेश शुक्ल । Mar 27, 2021 8:34PM
पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने कहा कि कितना झूठ है, मैं समझता हूँ कि देश का प्रधानमंत्री मेरा, मेरे देश के प्रधानमंत्री पर मुझे गर्व होना चाहिए। अगर वह देश से बाहर जाकर इस तरह की बातें करते हैं, तो हमें कही न कहीं किसी न किसी रूप में अंतरआत्मा में दुःख होता है। झूठ की एक पराकाष्ठा है, झूठ बोलने कीभी एक सीमा है

भोपाल। जब हमारे देश का प्रधानमंत्री झूठबोलता है तो हम सबको शर्म आती है। झूठ बोलने की भी पराकाष्ठा होती है, हमारे देश केप्रधानमंत्री पर हमें गर्व होना चाहिए लेकिन वह देश से बाहर जाकर जब झूठ बोलतेहै तो हम शर्मसार हो जाते हैं। यह बात मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष,मीडिया प्रभारी और पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने नागदा में कही। वह भारतीय सेना केजवान सियाचिन में शहीद हुए प्रदेश की माटी के वीर सपूत शहीद श्री बादल सिंह की अंतिमयात्रा में शामिल होने नागदा पहुँचे थे। 

इसे भी पढ़ें: भोपाल के पास प्रशिक्षु विमान दुर्घटनाग्रस्त, सभी पायलट सुरक्षित

जीतू पटवारी ने कहा कि हमने कल बंगलादेश में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का भाषण सुना जिसमें उन्होंने कहा कि बंगलादेश की आजादी के आंदोलन में सत्याग्रह कर उन्होंने इसमें भाग लिया और उनके पहले किए गए आंदोलनों का एक हिस्सा था। पूर्व मंत्री ने कहा कि इतिहास यह कहीं नहीं बताता कि भारत की सेना ने बंगलादेश की आजादी की सेना को समर्थन किया। यह जरूर है कि बंगलादेश की आजादी के लिए भारत की सेना, तत्कालीन सरकार की प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी, उस समय का पूरा विपक्ष और पूरा देश एक था जो पाकिस्तान को हराकर बंगलादेश की आजादी के लिए प्रयास कर रहे थे। तो जब पूरा देश एक होकर बंगलादेश की स्वतंत्रता के लिए काम कर रहा था तो फिर नरेन्द्र मोदी जी किसके खिलाफ और क्यों सत्याग्रह कर रहे थे।

इसे भी पढ़ें: शादी का झांसा देकर पंजाब ले गया युवक, युवती से किया दुष्कर्म

पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने कहा कि कितना झूठ है, मैं समझता हूँ कि देश का प्रधानमंत्री मेरा, मेरे देश के प्रधानमंत्री पर मुझे गर्व होना चाहिए। अगर वह देश से बाहर जाकर इस तरह की बातें करते हैं, तो हमें कही न कहीं किसी न किसी रूप में अंतरआत्मा में दुःख होता है। झूठ की एक पराकाष्ठा है, झूठ बोलने कीभी एक सीमा है पूरे देश से झूठ बोले, दो करोड़ रोजगार देंगे नहीं दिए, पाँच ट्रिलियन डालर की अर्थव्यवस्था बनाएगें नहीं बनाई, देश में दो अंकों में जीडीपी लायेंगे नहीं ला पाए। जो बोले झूठ बोले देश में बोले, विदेश में बोले ऐसे मेरे देश के प्रधानमंत्री इनका भगवान ही मालिक है। अब तो देशवासियों को इनके झूठ पर शर्म आने लगी है।    

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़