असम में गणतंत्र दिवस पर आईआईटी-गुवाहाटी में विकसित ड्रोन का प्रदर्शन होगा

Drone
प्रतिरूप फोटो
सीताराम ने कहा कि संस्थान में ड्रोन केंद्र के शुभारंभ के बाद से कई उद्देश्यों से यूएवी का इस्तेमाल हो रहा है जिसमें डाटा संकलन, भूमि सर्वेक्षण, नदी मानचित्रण, कृषि संबंधी सेवा, स्वास्थ्य और आपदा प्रबंधन शामिल है।

गुवाहाटी| आईआईटी-गुवाहाटी अनुसंधान पार्क में एक स्टार्ट-अप द्वारा विकसित ड्रोन बुधवार को गणतंत्र दिवस समारोह के दौरान प्रदर्शित किया जाएगा।

असम के कामरूप में आयोजित होने वाले गणतंत्र दिवस कार्यक्रम के दौरान मानव रहित वाहनों (यूएवी) के प्रदर्शन में इस ड्रोन को शामिल किया जाएगा। संस्थान की ओर से जारी बयान के मुताबिक पूर्वोत्तर क्षेत्र में ड्रोन संबंधी कार्यक्रम अपने तरह का पहला कदम है।

बयान में बताया गया कि यह ड्रोन आपदा प्रबंधन, कृषित, सर्वेक्षण और मानचित्रण के क्षेत्र में समाधान ढूंढ़ने के लिहाज से सफल पाया गया। गणतंत्र दिवस समारोह में स्टार्ट-अप ‘ड्रोन टेक लैब’ की भागीदारी पर भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) गुवाहाटी के निदेशक प्रोफेसर टीजी सीताराम ने भी अपनी राय व्यक्त की।

सीताराम ने कहा कि संस्थान में ड्रोन केंद्र के शुभारंभ के बाद से कई उद्देश्यों से यूएवी का इस्तेमाल हो रहा है जिसमें डाटा संकलन, भूमि सर्वेक्षण, नदी मानचित्रण, कृषि संबंधी सेवा, स्वास्थ्य और आपदा प्रबंधन शामिल है।

सीताराम ने कहा, ‘‘आईआईटी गुवाहाटी राज्य में ड्रोन आधारित सेवा उपलब्ध कराने में अपने प्रयासों को बढ़ाएगा। गणतंत्र दिवस पर इस यूएवी के प्रदर्शन से लोगों के लाभ के लिए इस तकनीक को प्रचारित करने में मदद मिलेगी।’’

ड्रोन टेक लैब के विस्वजीत ने कहा कि उनका स्टार्ट-अप इस क्षेत्र में अपनी पूरी विशेषज्ञता के साथ यूएवी सेवा मुहैया कराना चाहता है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़