IIT खड़गपुर के अनुसंधानकर्ताओं ने तैयार की सूक्ष्म सुई, दवा देते समय नहीं होगा दर्द

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 29, 2020   17:42
IIT खड़गपुर के अनुसंधानकर्ताओं ने तैयार की सूक्ष्म सुई, दवा देते समय नहीं होगा दर्द

बयान में कहा गया कि इन्सुलिन लेने के अलावा भविष्य में कोविड-19 टीकाकरण में भी इसका इस्तेमाल हो सकेगा।

कोलकाता। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) खड़गपुर के अनुसंधानकर्ताओं ने एक सूक्ष्म सुई विकसित की है जिसके जरिए बिना किसी दर्द के दवा दी जा सकती है। संस्थान के इलेक्ट्रॉनिक्स और इलेक्ट्रिकल कम्युनिकेशन इंजीनियरिंग विभाग ने सुई के आकार के साथ ही इसकी मोटाई को भी घटा दिया है और इसकी क्षमता को बढ़ा दिया है जिससे सुई इस्तेमाल के समय टूटेगी नहीं। 

इसे भी पढ़ें: क्या रूस का कोरोना टीका सच में हुआ कारगर साबित? WHO कर रही रूस से बातचीत 

बयान में कहा गया कि इन्सुलिन लेने के अलावा भविष्य में कोविड-19 टीकाकरण में भी इसका इस्तेमाल हो सकेगा। अग्रणी अनुसंधानकर्ता प्रोफेसर तरुण कांति भट्टाचार्य ने कहा, ‘‘इन्सुलिन लेने या बीमारियों की दवाओं को देने में इसका इस्तेमाल हो सकेगा। कैंसर के कुछ प्रकार और कोविड-19 का टीका देने में भी इसका उपयोग हो सकेगा।’’ 

इसे भी पढ़ें: सरकार फैसला करे तो कोरोना के टीके को आपात मंजूरी देने पर किया जा सकता विचार: ICMR 

वर्तमान में इस्तेमाल होने वाली सिरिंज की तुलना में सूक्ष्म सुई दवा देने के तरीके में व्यापक बदलाव ला सकती है। इससे दर्द भी नहीं होगा और दवा देने में आसानी होगी। चिकित्सा प्रावधानों के तहत जानवरों को दवा देने में इसका सफल परीक्षण हो चुका है। बयान में कहा गया कि इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (एमईआईटीवाई) तथा विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार ने इस नवाचार के लिए अनुसंधान को सहायता प्रदान की है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।