प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की गिफ्ट सिटी की यात्रा के दौरान होंगी महत्वपूर्ण घोषणाएं

PM Narendra Modi
ANI
न्यू डेवलपमेंट बैंक (NDB) द्वारा गिफ्ट-आईएफएससी में भारतीय क्षेत्रीय कार्यालय (IRO) की स्थापना। यह IRO भारतीय उपमहाद्वीप में विकास और प्रभाव वाली परियोजनाओं की पहचान करने के साथ ही क्षमता निर्माण में सरकारी संस्थानों की सहायता के लिए महत्वपूर्ण केंद्र साबित होगा।

गांधीनगर। माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी आगामी 29 जुलाई को गुजरात इंटरनेशनल फाइनेंस टेक-सिटी (गिफ्ट सिटी) में स्थित भारत के पहले अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र (आईएफएससी) का दौरा करेंगे। इस मौके पर माननीय प्रधानमंत्री आईएफएससीए (IFSCA) मुख्यालय भवन की आधारशिला रखेंगे। इसके अतिरिक्त माननीय प्रधानमंत्री इंडिया इंटरनेशनल बुलियन एक्सचेंज (आईआईबीएक्स) और एनएसई आईएफएससी - एसजीएक्स (NSE IFSC - SGX) कनेक्ट का शुभारंभ भी करेंगे। इन विषयों का संक्षिप्त विवरण IFSCA द्वारा 25 जुलाई, 2022 को जारी की गयी एक प्रेस विज्ञप्ति में दिया गया  है। 

इस अवसर पर गुजरात के माननीय मुख्यमंत्री श्री भूपेंद्र पटेल; माननीया वित्त मंत्री और कॉर्पोरेट कार्य मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारामन; माननीय वित्त मंत्री और ऊर्जा मंत्री, गुजरात सरकार, श्री कनुभाई देसाई; माननीय केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री डॉ. भागवत किशनराव कराड और माननीय केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री श्री पंकज चौधरी के भी उपस्थित होने की संभावना है । 

इसे भी पढ़ें: विपक्षी सांसदों के निलंबन से गुस्साए राहुल ने PM मोदी को बताया राजा, मांगा इन 10 सवालों का जवाब

माननीय प्रधानमंत्री IFSCA की नियामक पहल के तहत किये गए गिफ्ट-आईएफएससी से संबंधित अन्य विकास कार्यों और महत्वपूर्ण घोषणाओं का भी संज्ञान लेंगे।

ये प्रमुख विकास और घोषणाएं निम्नवत हैं:

1. अंतर-नियामक सहयोग को मज़बूत करने के लिए स्वीडन, लक्जमबर्ग, कतर और सिंगापुर की नियामक प्राधिकरणों के साथ IFSCA द्वारा समझौता ज्ञापन (Memorandum of Understanding) का आदान प्रदान किया जाएगा। इसके अलावा, फिनटेक और स्पेसटेक के बीच अभिसरण की संभावनाएं खोजने के लिए भारत सरकार के अंतरिक्ष विभाग के साथ भी समझौता ज्ञापन का आदान प्रदान किया जाएगा।  

2. न्यू डेवलपमेंट बैंक (NDB) द्वारा गिफ्ट-आईएफएससी में भारतीय क्षेत्रीय कार्यालय (IRO) की स्थापना। यह IRO भारतीय उपमहाद्वीप में विकास और प्रभाव वाली परियोजनाओं की पहचान करने के साथ ही क्षमता निर्माण में सरकारी संस्थानों की सहायता के लिए महत्वपूर्ण केंद्र साबित होगा।

3. तीन प्रमुख बहुराष्ट्रीय बैंकों - डॉएच्च बैंक एजी, जेपीमॉर्गन चेस बैंक और एमयूएफजी बैंक की आईएफएससी बैंकिंग इकाइयों के संचालन की शुरूआत के संबंध में घोषणा की जाएगी।

4. गिफ्ट-आईएफएससी में बैंक ऑफ अमेरिका के ग्लोबल इन-हाउस सेंटर के क्षमता विस्तार के संबंध में घोषणा की जाएगी।

5. IFSCA के रेगुलेटरी सैंडबॉक्स के तहत चार फर्मों द्वारा अंतर्राष्ट्रीय व्यापार वित्तपोषण सेवा (International Trade Financing Services) (आईटीएफएस) प्लेटफार्मों के संचालन के संबंध में घोषणा की जाएगी, जो वैश्विक व्यापार वित्तपोषण गतिविधियों को गिफ्ट-आईएफएससी में लाने के अलावा, भारतीय एमएसएमई और अन्य फर्मों की वैश्विक व्यापार वित्तपोषण की ज़रूरतें पूरी करने में और उन्हें भारत के विदेश व्यापार के विकास इंजन में बदलने में मदद करेंगे।

6. गिफ्ट-आईएफएससी में फिनटेक संस्थाओं के लिए IFSCA की नियामक रूपरेखा के तहत पांच फिनटेक इकाइयों को प्राधिकृत करने के संबंध में घोषणा की जाएगी। ये फिनटेक इकाइयां एग्रीटेक, इंश्योरटेक, क्वांटमटेक, डिजिटल आइडेंटिटी और ब्लॉकचेन-आधारित बिजनेस सॉल्यूशंस जैसे क्षेत्रों में उचित समाधान खोजने की दिशा में काम करेंगी।

इसे भी पढ़ें: मोदी और शाह ने लोकतंत्र को किया निलंबित, 19 विपक्षी सांसदों के निलंबन पर बरसे डेरेक ओ ब्रायन

7. गिफ्ट-आईएफएससी में परिचालन स्थापित करने के लिए 100 से अधिक ब्रोकर-डीलरों की तरफ से एसोसिएशन ऑफ़ नेशनल एक्सचेंजेस मेंबर्स ऑफ़ इंडिया (ANMI) और कमोडिटी पार्टिसिपेंट्स एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया (CPAI) द्वारा आशय पत्र के संबंध में घोषणा की जाएगी। इस से गिफ्ट-आईएफएससी में पूंजी बाजार पारितंत्र और भी मज़बूत होगा।

8. आज़ादी के अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में इंडिया आईएनएक्स स्टॉक एक्सचेंज पर बॉन्ड्स की 75वीं लिस्टिंग की जाएगी।

9. इंटरनेशनल सस्टेनेबिलिटी प्लेटफॉर्म (ISX) का शुभारंभ किया जायेगा। यह प्लेटफॉर्म भारतीय और अंतर्राष्ट्रीय कॉरपोरेट्स, सरकारों और संस्थानों की जलवायु और संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास लक्ष्यों (Sustainable Development Goals) की पूर्ती से जुडी फंडिंग आवश्यकताओं को पूरा करने में मदद करेगा।

अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र प्राधिकरण (IFSCA) 

अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र प्राधिकरण (IFSCA) भारत में अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्रों (IFSCs) में वित्तीय उत्पादों, वित्तीय सेवाओं और वित्तीय संस्थानों के विकास और विनियमन के लिए एक वैधानिक एकीकृत नियामक है। अधिक जानकारी के लिए कृपया देखें www.ifsca.gov.in 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़