मोदी और शाह ने लोकतंत्र को किया निलंबित, 19 विपक्षी सांसदों के निलंबन पर बरसे डेरेक ओ ब्रायन

Derek O Brien
ANI Image
तृणमूल कांग्रेस सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने कहा कि मोदी और शाह ने लोकतंत्र को निलंबित कर दिया है ... आप सांसदों के बारे में क्या बात कर रहे हैं? आपको बता दें कि राज्यसभा के 19 विपक्षी सांसदों पर गाज गिरी और उन्हें एक सप्ताह के लिए सदन की कार्यवाही से निलंबित कर दिया गया।

नयी दिल्ली। संसद के मानसून सत्र का आज सातवां दिन है और मंगलवार को भी महंगाई, जीएसटी जैसे मुद्दों को लेकर संसद में जमकर हंगामा हुआ। ऐसे में राज्यसभा के 19 विपक्षी सांसदों पर गाज गिरी और उन्हें एक सप्ताह के लिए सदन की कार्यवाही से निलंबित कर दिया गया। जिसको लेकर विपक्षी दल काफी ज्यादा नाराज दिखाई दे रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: शिंदे का जिक्र करते हुए सीट विवाद को लेकर सरकार पर बरसे मल्लिकार्जुन खड़गे, बोले- आप अपने लोगों को बैठाते हो आगे  

इसी बीच तृणमूल कांग्रेस के राज्यसभा सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर निशाना साधा। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, तृणमूल कांग्रेस सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने कहा कि मोदी और शाह ने लोकतंत्र को निलंबित कर दिया है ... आप सांसदों के बारे में क्या बात कर रहे हैं?

राज्यसभा से एक सप्ताह के लिए निलंबित हुए 19 विपक्षी सांसदों में अलग-अलग दलों के सदस्य शामिल हैं। जिसमें तृणमूल कांग्रेस की सुष्मिता देव, मौसम नूर, शांता छेत्री, डोला सेन, अभिरंजन विश्वास, मोहम्मद नदीम उल हक, आर वद्दीराजू, एस कल्याणासुंदरम, आर गिररंजन, एनआर इलांगो, एम शणमुगम, दामोदर राव दिवाकोंडा और पी संदोष कुमार हैं।

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस सांसदों पर कार्यवाही को लेकर भड़के अधीर रंजन, सरकार ने विपक्ष की आवाज को धमकाने के लिए उठाया क्रूर कदम 

लोकसभा सांसद भी नपे थे

राज्यसभा से 19 विपक्षी सांसदों के निलंबित होने से एक दिन पहले लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कांग्रेस के 4 सांसदों को मौजूदा सत्र की शेष अवधि से निलंबित कर दिया था। जिसमें मणिकम टैगोर, टी एन प्रतापन, जोतिमणि और राम्या हरिदास शामिल हैं। दरअसल, कांग्रेस सांसदों ने आसन के समीप आकर जमकर नारेबाजी की और उनके हाथों में तख्तियां भी थीं।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़