बिहार में एक ओर सुखा तो दूसरी ओर बाढ़ का खतरा, उत्तर में कई नदियां उफान पर

bihar flood
ANI
अंकित सिंह । Aug 02, 2022 6:22PM
नेपाल से आने वाली नदियां भी अब उफान पर जाती दिखाई दे रही हैं। बिहार के जल संसाधन विभाग के मंत्री संजय कुमार झा ने बताया है कि नेपाल से आने वाली गंडक, कोसी, बागमती और कमला बालन नदियों को लेकर हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है। इन नदियों ने कुछ इलाके में खतरे के निशान को पार कर लिया है।

पिछले दो महीनों में देखें तो बिहार में बारिश काफी कम रही। यही कारण रहा कि धान की रोपाई समय पर नहीं शुरू हो पाई। इन सब के बीच अब उत्तर बिहार में लगातार बारिश हो रही है। हालांकि, दक्षिण बिहार में अभी भी सूखा का खतरा मंडरा रहा है। उत्तर बिहार में अगर इसी तरह की बारिश होती रही तो आने वाले दिनों में बाढ़ का खतरा बढ़ सकता है। वहीं, नेपाल से आने वाली नदियां भी अब उफान पर जाती दिखाई दे रही हैं। बिहार के जल संसाधन विभाग के मंत्री संजय कुमार झा ने बताया है कि नेपाल से आने वाली गंडक, कोसी, बागमती और कमला बालन नदियों को लेकर हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है। इन नदियों ने कुछ इलाके में खतरे के निशान को पार कर लिया है। 

इसे भी पढ़ें: 'तीसरी बार मोदी सरकार' के लक्ष्य को साधने में अभी से जुट गयी है भाजपा

झा के मुताबिक वह व्यक्तिगत रूप से स्थिति की निगरानी कर रहे हैं। नेपाल में भारी बारिश की वजह से विभिन्न राज्यों में भी जलस्तर बढ़ गया है। वहीं उत्तर बिहार में पिछले 5-7 दिनों से लगातार बारिश जारी है। आने वाले दिनों में और भी कई इलाकों में बारिश का खतरा बताया जा रहा है। इसी वजह से अब मैदानी इलाकों में पानी भरने का खतरा उत्पन्न हो गया है। हालांकि, आखिरी अगस्त और सितंबर के दौरान उत्तर बिहार तथा पूर्वोत्तर राज्यों के अन्य हिस्सों में बारिश में कमी बनी रह सकती है। वहीं, दक्षिण बिहार में अभी भी बुखार की स्थिति है। इन इलाकों में खेती का काम अब तक शुरू नहीं हो पाया है। आने वाले दिनों में इन क्षेत्रों में स्थिति और भी भयानक हो सकती है। यही कारण है कि सरकार ने इसको लेकर तैयारियां शुरू कर दी है।

इसे भी पढ़ें: अपने 12,000 कर्मचारियों को माइक्रोसॉफ्ट की प्रौद्योगिकियों पर प्रशिक्षण देगी एलटीआई

फिलहाल उत्तर बिहार और राज्य के सीमांचल इलाके में कई नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही है जिस कारण सीमावर्ती इलाकों के कई जिले बाढ़ आने का खतरा पैदा हो गया है। सभी संबंधित अधिकारियों को स्थिति पर बारीकी से नजर रखने और तटबंधों पर निगरानी रखने के लिए कहा गया है। वाल्मीकिनगर बैराज में सोमवार को जल स्तर 264000 क्यूसेक था और यह लगातार बढ़ रहा है। गंडक नदी का जलस्तर भी बढ़ रहा है इसलिए अधिकारियों को सतर्क कर दिया गया है। सुपौल जिले के बीरपुर स्थित कोसी बैराज में सोमवार को जलस्तर 181115 क्यूसेक था और यह लगातार बढ़ रहा है। कमला बालन का जलस्तर सोमवार को जयनगर:67.94 मीटरः और झंझारपुर:51.05 मीटरः खतरे के निशान से ऊपर दर्ज किया गया। इसी तरह बागमती नदी बेनीबाद:48.69 मीटरः और सोनाखान:68.98 मीटरः में खतरे के निशान से ऊपर बह रही थी। बिहार में एक जून से 31 जुलाई तक 306.9 मिमी बारिश हुई है जो कि पिछले साल इसी अवधि की तुलना में कम:503.8 मिमीः है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़