कोरोना वायरस रोधी टीकाकरण की रेस में भारत निकला अमेरिका से आगे

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 28, 2021   13:56
कोरोना वायरस रोधी टीकाकरण की रेस में भारत निकला अमेरिका से आगे

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को बताया कि लोगों को अब तक दी गई कोविड-19 टीकों की कुल खुराकों के लिहाज से भारत अमेरिका से आगे निकल गया है। भारत ने कोविड-19 टीकाकरण अभियान 16 जनवरी को शुरू किया था ।

नयी दिल्ली। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को बताया कि लोगों को अब तक दी गई कोविड-19 टीकों की कुल खुराकों के लिहाज से भारत अमेरिका से आगे निकल गया है। भारत ने कोविड-19 टीकाकरण अभियान 16 जनवरी को शुरू किया था और लोगों को अब तक 32.36 करोड़ खुराकें लगाई जा चुकी हैं, वहीं 14 दिसंबर 2020 से टीकाकरण अभियान शुरू करने वाले अमेरिका ने 32.33 करोड़ खुराकें दी हैं। मंत्रालय ने कहा, “भारत ने कोविड-19 टीकाकरण में एक और उपलब्धि हासिल की है और दी गई कोविड-19 टीके की कुल खुराकों के मामले में वह अमेरिका से आगे निकल गया है।”

इसे भी पढ़ें: जम्मू कश्मीर के राजनीतिक दलों ने पुलिसकर्मी, उनके परिवार पर हमले की निंदा की

भारत में कोविड-19 टीके की दी गई खुराकों की कुल संख्या रविवार को 32.36 करोड़ के आंकड़े को पार कर गई। सोमवार को सुबह सात बजे तक की अनंतिम रिपोर्ट के मुताबिक 43,21,898 सत्रों के माध्यम से टीकों की कुल 32,36,63,297 खुराकें दी जा चुकी हैं। इसने बताया कि पिछले 24 घंटों में 17,21,268 टीके लगाए गए। आंकड़ों के मुताबिक 1,01,98,257 स्वास्थ्य कर्मियों को टीके की पहली खुराक जबकि 72,07,617 को दूसरी खुराक दी जा चुकी है।

इसे भी पढ़ें: बहन की शादी में लहंगा पहनने के लिए माधुरी दीक्षित के इन 5 लुक्स से लें आईडियाज

अब तक 45 से 59 साल आयु वर्ग में, 8,71,11,445 लोगों को पहली खुराक जबकि 1,48,12,349 को दूसरी खुराक दी जा चुकी है। इसके अलावा, 60 वर्ष से अधिक उम्र के 6,75,29,713 लोगों को पहली खुराक जबकि 2,34,08,944 लोगों को दूसरी खुराक दी जा चुकी है। कोविड-19 टीकाकरण के सार्वभौमीकरण का नया चरण 21 जून से शुरू हुआ है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।