समझौता एक्सप्रेस पर अभी भारत का निर्णय लेना बाकी, पाकिस्तान ने रोकी ट्रेन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 28, 2019   16:04
समझौता एक्सप्रेस पर अभी भारत का निर्णय लेना बाकी, पाकिस्तान ने रोकी ट्रेन

पाकिस्तान ने बुधवार को अपनी तरफ वाघा से लाहौर के बीच ट्रेन के फेरे रद्द कर दिये थे जबकि 27 यात्री भारतीय ट्रेन से पुरानी दिल्ली से अटारी पहुंचे थे।

नयी दिल्ली। पुलवामा आतंकवादी हमले और बाद के घटनाक्रम के बीच भारतीय रेलवे ने अभी तक समझौता एक्सप्रेस के मामले में कोई फैसला नहीं किया है। हालांकि पाकिस्तान ने अपनी तरफ समझौता एक्सप्रेस के परिचालन को रोक दिया है। यह ट्रेन बृहस्पतिवार को अटारी से दिल्ली पहुंचती है। अधिकारियों ने बताया कि भारतीय पक्ष ने इस ट्रेन को अटारी से दिल्ली तक चलाये जाने या नहीं चलाए जाने के संबंध में अब तक कोई फैसला नहीं किया है।

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान ने समझौता एक्सप्रेस रेल सेवा रोकी, सभी यात्री लाहौर में फंसे

पाकिस्तान ने बुधवार को अपनी तरफ वाघा से लाहौर के बीच ट्रेन के फेरे रद्द कर दिये थे जबकि 27 यात्री भारतीय ट्रेन से पुरानी दिल्ली से अटारी पहुंचे थे। उनमें 23 भारतीय यात्री और तीन पाकिस्तानी यात्री थे। अधिकारियों के अनुसार वाघा स्टेशन मास्टर ने अपने अटारी समकक्ष को संदेश भेजा कि यात्री और पार्सल ट्रेन जो पाकिस्तान की तरफ से अटारी तक आती है, अगले आदेश तक नहीं आएगी।

इसे भी पढ़ें: इस्कॉन के कार्यक्रम में शरीक होने के लिये PM मोदी ने की मेट्रो की सवारी

उससे पहले पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने एक बयान में कहा था कि पाकिस्तान और भारत के बीच वर्तमान स्थिति के मद्देनजर ट्रेन परिचालन बृहस्पतिवार को निलंबित कर दिया गया। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने बुधवार को कहा था कि हमें समझौता एक्सप्रेस के परिचालन में बदलाव के संबंध में प्रशासन से कोई निर्देश नहीं मिला है। इस संबंध में जो भी निर्देश मिलेगा उसका पालन किया जाएगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।