चेस ओलंपियाड से पाकिस्तान के हटने पर भारत ने जताई हैरानी, MEA ने कहा- अंतरराष्ट्रीय आयोजन का किया राजनीतिकरण

arindam baghchi
ANI
अंकित सिंह । Jul 28, 2022 4:41PM
पाकिस्तान ने यही कारण बताते हुए इस बार के चेस ओलंपियाड से बाहर रहने का फैसला लिया है। पाकिस्तान की ओर से यह फैसला चेस ओलंपियाड के शुरू होने से ठीक 1 दिन पहले लिया गया है।

भारत में आज से 44 में चेस ओलंपियाड की शुरुआत हो रही है। इस ओलंपियाड में 188 देशों के 2000 से अधिक खिलाड़ी शामिल हो रहे हैं। जब से चेस ओलंपियाड की शुरुआत हुई है तब से यह पहला मौका है जब भारत इस महाकुंभ की मेजबानी कर रहा है। भारत में इसको लेकर खूब तैयारी भी की जा रही है। जून महीने में ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से एक रिले टॉर्च को हरी झंडी दिखाई गई थी जो कि देश के 75 शहरों से गुजरा। इसी कड़ी में यह रिले टॉर्च श्रीनगर भी पहुंचा था। पाकिस्तान को इससे मिर्ची लग गई। पाकिस्तान ने यही कारण बताते हुए इस बार के चेस ओलंपियाड से बाहर रहने का फैसला लिया है। पाकिस्तान की ओर से यह फैसला चेस ओलंपियाड के शुरू होने से ठीक 1 दिन पहले लिया गया है। 

इसे भी पढ़ें: जानें क्या है चेस ओलंपियाड? आखिर क्यों भारत से नाराज होकर पाकिस्तान ने खुद को इससे किया दूर

अब इसी को लेकर भारत का भी बयान सामने आया है। विदेश मंत्रालय ने इस पर हैरानी जताई है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि हैरानी की बात है कि पाकिस्तान ने अचानक शतरंज ओलंपियाड में भाग नहीं लेने का फैसला किया, खासकर जब उसकी टीम भारत पहुंच गई थी। उन्होंने कहा कि बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है कि पाकिस्तान ने प्रतिष्ठित अंतरराष्ट्रीय आयोजन का राजनीतिकरण किया। पाकिस्तान ने आरोप लगया है कि भारत इस आयोजन का "राजनीतिकरण" कर रहा है। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने अपने बयान में कहा कि अफसोस की बात है कि भारत ने इस प्रतिष्ठित अंतरराष्ट्रीय खेल का राजनीतिकरण करने के लिए जम्मू और कश्मीर में रिले मशाल को लेकर गए।

इसे भी पढ़ें: भारत में हो रहे चेस ओलंपियाड को लेकर उत्सुक हैं रजनीकांत, ट्वीट कर कही यह बात

भारत का प्रदर्शन

भारत ने पहली बार 1956 में मास्को में हुए चेस ओलंपियाड में हिस्सा लिया था। उस समय भारत 27 वां स्थान पर रहा था। 2020 में चेस ओलंपियाड में भारत रूस के साथ संयुक्त विजेता रहा था। उसे स्वर्ण पदक हासिल हुआ था। इससे पहले भारत ने 2021 और 2014 में दो कांस्य पदक जीत चुका है। इस बार भारत के 30 खिलाड़ी इस ओलंपियाड में शामिल होंगे। अब तक के इतिहास को देखें तो यह शतरंज ओलंपियाड में अब तक की सबसे बड़ी भागीदारी होगी। भारत में भी इसे खास बनाया जा रहा। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़