ब्रिटेन में प्रयोग किया गया भारत के फेसबुक यूजर्स का डाटा, CBI ने किया मामला दर्ज

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 22, 2021   14:31
ब्रिटेन में प्रयोग किया गया भारत के फेसबुक यूजर्स का डाटा, CBI ने किया मामला दर्ज

सीबीआई ने ब्रिटेन स्थित कैम्ब्रिज एनालिटिका और ग्लोबल साइंस रिसर्च के खिलाफ भारत में फेसबुक उपयोगकर्ताओं का डेटा व्यवसायिक उद्देश्यों के लिए गैरकानूनी तरीके से एकत्रित करने के आरोप में मामला दर्ज किया है। अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी।

नयी दिल्ली। सीबीआई ने ब्रिटेन स्थित कैम्ब्रिज एनालिटिका और ग्लोबल साइंस रिसर्च के खिलाफ भारत में फेसबुक उपयोगकर्ताओं का डेटा व्यवसायिक उद्देश्यों के लिए गैरकानूनी तरीके से एकत्रित करने के आरोप में मामला दर्ज किया है। अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि शुरुआती जांच में पता चला था कि ग्लोबल साइंस रिसर्च ने ‘दिस इज योर डिजिटल लाइफ’ नाम से ऐप बनाया था और इसे फेसबुक ने 2014 में अपने उपयोगकर्ताओं के विशेष डेटासेट का शोध एवं अकादमिक उद्देश्यों के लिएइस्तेमाल करने का अधिकार दिया था।

इसे भी पढ़ें: व्हाइट हाउस का बयान- कमला हैरिस के उपराष्ट्रपति बनने से भारत-अमेरिका रिश्ते और मजबूत होंगे

अधिकारियों ने कहा कि इसके बाद कंपनी ने कैम्ब्रिज एनालिटिका के साथ आपराधिक साजिश रची और उसे इस डेटा को व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए इस्तेमाल करने की मंजूरी दी। अधिकारियों के अनुसार फेसबुक ने 2016-17 में दोनों कंपनियों से प्रमाणपत्र प्राप्त किये थे कि ‘दिस इज योर डिजिटल लाइफ’ का इस्तेमाल करते हुए उनके द्वारा एकत्रित आंकड़ों को सहेजने के बादउन्हें नष्ट कर दिया गया।

इसे भी पढ़ें: CWC की बैठक: कांग्रेस अध्यक्ष समेत, संगठन का चुनाव मई में कराने की संभावना

हालांकि सीबीआई जांच में इस तरह आंकड़ों को नष्ट किये जाने का कोई प्रमाण नहीं मिला। एक अधिकारी ने प्राथमिकी के हवाले से कहा, ‘‘जांच में प्रथमदृष्टया साबित हुआ कि ग्लोबल साइंस रिसर्च लिमिटेड, ब्रिटेन ने बेईमानी और धोखाधड़ी से ‘दिस इज योर डिजिटल लाइफ’ के ऐप उपयोगकर्ताओं और उनके फेसबुक फ्रेंड्स के डेटा प्राप्त किये।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।