इंदिरा गांधी ने आपातकाल लागू कर लोकतंत्र का गला घोंटने की कोशिश की: आव्हाड

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 30, 2020   12:49
इंदिरा गांधी ने आपातकाल लागू कर लोकतंत्र का गला घोंटने की कोशिश की: आव्हाड

‘संविधान बचाओ संघर्ष समिति’ द्वारा महाराष्ट्र के बीड में बुधवार को आयोजित एक समारोह में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के नेता ने कहा, ‘‘आपातकाल लागू कर इंदिरा गांधी ने लोकतंत्र का गला घोंटने की कोशिश की।

बीड। महाराष्ट्र के मंत्री एवं राकांपा नेता जितेंद्र आव्हाड ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने देश में आपातकाल लागू कर लोकतंत्र का ‘‘गला घोंटने’’ की कोशिश की। ‘संविधान बचाओ संघर्ष समिति’ द्वारा महाराष्ट्र के बीड में बुधवार को आयोजित एक समारोह में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के नेता ने कहा, ‘‘आपातकाल लागू कर इंदिरा गांधी ने लोकतंत्र का गला घोंटने की कोशिश की। उस समय किसी ने खुलकर इस पर बात नहीं की। लेकिन अहमदाबाद और पटना में इसका विरोध शुरू हुआ और जन शक्ति के दम पर इंदिरा गांधी की हार हुई।’’ देश में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) को लेकर जारी विरोध प्रदर्शन के बीच उनका यह बयान आया है।

इसे भी पढ़ें: निर्भया के दोषी मुकेश की याचिका फिर खारिज, अब होकर रहेगी फांसी

आवासीय मंत्री ने कहा, ‘‘जब भी हिटलर जन्म लेता है, वह तर्कवादियों और छात्रों से डरता है क्योंकि वे विद्रोही होते हैं। इसलिए जेएनयू और अन्य विश्वविद्यालयों में छात्रों पर हमला हुआ।’’ आव्हाड ने कहा, ‘‘ संविधान के लिए खतरा पैदा करने वाली घटनाओं का विरोध करने वाले छात्रों की संख्या वर्तमान में अधिक नहीं है। लेकिन यह भविष्य में बढ़ सकती है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ना हिंदू और ना मुसलमान, लेकिन संविधान खतरे में है।

इसे भी पढ़ें: निर्भया कांड के मुजरिमों के वकील व्यवस्था का मजाक बना रहे हैं: सिसोदिया

भाजपा जो कर रही है करने दो। बस एक हाथ में तिरंगा और दूसरे में संविधान की एक प्रति थामे रखें और इस साजिश का विरोध करें।’’ हाल ही में शिवसेना नेता संजय राउत ने भी इंदिरा गांधी के मुम्बई में अपने समय के गैंगस्टर करीम लाला से मिलने का दावा कर विवाद खड़ा कर दिया था। हालांकि सहयोगी कांग्रेस द्वारा बयान की आलोचना करने के बाद उन्होंने इसे वापस ले लिया था।

BJP के खिलाड़ियों की टीम का हुआ विस्तार, Saina Nehwal पार्टी में शामिल 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...