क्या अब भी पार्टी से नाराज हैं मनीष तिवारी? जानें कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने क्या दिया जवाब

क्या अब भी पार्टी से नाराज हैं मनीष तिवारी? जानें कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने क्या दिया जवाब
ANI pictures

मनीष तिवारी ने साफ तौर पर कहा है कि वह पार्टी से नाराज नहीं हैं और हमेशा भारत के बहुलवादी विचारधारा में विश्वास करते हैं और साथ ही साथ पार्टी के साथ मिलकर काम कर रहे हैं। दरअसल मनीष तिवारी भी जी-23 के सदस्य बताए जाते हैं जिन्होंने आलाकमान को पत्र लिखकर पार्टी में कई बड़े बदलाव की मांग की थी।

पिछले एक-दो सालों में देखें तो कांग्रेस के लिए सब कुछ अच्छा नहीं चल रहा है। कांग्रेस में जी-23 नेताओं का एक समूह भी है जो कि आलाकमान से नाराज बताया जाता है। इन सबके बीच कांग्रेस की ओर से चिंतन शिविर का आयोजन किया जा रहा है। चिंतन शिविर के अलग-अलग पैनलों में जी-23 इसके नेताओं को तरहीज दी गई है। इन सब के बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता तथा पंजाब के आनंदपुर साहिब से सांसद मनीष तिवारी ने बड़ा बयान दिया है। मनीष तिवारी ने साफ तौर पर कहा है कि वह पार्टी से नाराज नहीं हैं और हमेशा भारत के बहुलवादी विचारधारा में विश्वास करते हैं और साथ ही साथ पार्टी के साथ मिलकर काम कर रहे हैं। दरअसल मनीष तिवारी भी जी-23 के सदस्य बताए जाते हैं जिन्होंने आलाकमान को पत्र लिखकर पार्टी में कई बड़े बदलाव की मांग की थी।

हाल में ही पंजाब में हुए विधानसभा चुनाव में मनीष तिवारी को कुछ खास भूमिका नहीं मिली थी। बताया जा रहा था कि मनीष तिवारी फिलहाल पार्टी से नाराज चल रहे हैं। इन सबके बीच मनीष तिवारी का यह वक्तव्य काफी मायने रखता है। मनीष तिवारी ने अपने ट्वीट में कहा कि ना तो मैं नाराज हूं और ना ही असंतुष्ट। ना थका हूं, ना ही सेवानिवृत्त हूं। भारत के बहुलवादी विचार के लिए प्रतिबंध लोगों के रूप में हम एक साथ काम करने के लिए तैयार है। आपको बता दें कि कांग्रेस के जीते इसके नेता जैसे कि गुलाम नबी आजाद, मनीष तिवारी, आनंद शर्मा, भूपेंद्र सिंह हुड्डा और मुकुल वासनिक को पार्टी ने चिंतन शिविर में कई समितियों में जगह दी है।

कांग्रेस ने राजनीति, सामाजिक न्याय एवं सशक्तीकरण, अर्थव्यवस्था, संगठन, किसान एवं कृषि तथा युवा एवं सशक्तीकरण से संबंधित समन्वय समितियां गठित की हैं। राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे राजनीतिक मामलों की समन्वय समिति के संयोजक होंगे। कांग्रेस के ‘जी 23’ के प्रमुख सदस्य गुलाम नबी आजाद एवं शशि थरूर, महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण, लोकसभा सदस्य उत्तम कुमार रेड्डी, गौरव गोगोई, सप्तगिरी उलका, पार्टी प्रवक्ता पवन खेड़ा और रागिनी नायक भी इस समिति में शामिल हैं। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।