जैश सरगना मसूद अजहर ने तालिबान से मांगी मदद, कश्मीर में फैलाना चाहता है आतंक !

masood azhar
प्राप्त जानकारी के मुताबिक मौलाना जैश-ए-मोहम्मद के नेता मसूद अजहर ने मुलाकात के दौरान भारत के खिलाफ अभियान चलाने के लिए मदद मांगी है। दरअसल, अफगानिस्तान में तालिबान के राज के बाद से वहां पर खूंखार आतंकवादी संगठन एकत्रित हो रहे हैं।

नयी दिल्ली। जैश-ए-मोहम्मद (JeM) के नेता मौलाना मसूद अजहर ने कश्मीर के मुद्दे को लेकर तालिबानियों से बातचीत की है। हाल ही में मौलाना मसूद अजहर अपने भाई अब्दुल रऊफ अजहर और मौलाना अम्मार के साथ कंधार में था, जहां पर उसने मुल्ला अब्दुल गनी बरादर से मुलाकात की है। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक मौलाना मसूद अजहर ने तालिबान से मदद मांगी है।  

इसे भी पढ़ें: काबुल में हमला करने वाले आईएस-के की तालिबान के साथ है वैचारिक प्रतिद्वंद्विता, खुरासान की करना चाहता है स्थापना 

प्राप्त जानकारी के मुताबिक मौलाना मसूद अजहर ने मुलाकात के दौरान भारत के खिलाफ अभियान चलाने के लिए मदद मांगी है। दरअसल, अफगानिस्तान में तालिबान के राज के बाद से वहां पर खूंखार आतंकवादी संगठन एकत्रित हो रहे हैं। 

बीते दिनों काबुल हवाई अड्डे के पास में दो आत्मघाती हमलों में 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई। जिसमें अमेरिका के 13 सैनिक भी शामिल हैं। वहीं 150 से ज्याद लोग जख्मी बताए जा रहे हैं। इसी बीच जैश-ए-मोहम्मद के नेता द्वारा तालिबान से मदद मांगना भारत की सुरक्षा व्यवस्था के लिए चिंता का विषय है। 

इसे भी पढ़ें: भारत का पहला विदेशी सैन्य बेस, जिसकी मदद से काबुल में फंसे भारतीयों को सकुशल निकाला गया 

आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर से जुड़ी सीमाओं पर सुरक्षाकर्मी सतर्क हैं। हाल ही में सीडीएस जनरल बिपिन रावत ने कहा था कि भारत हर स्थिति के लिए तैयार है।

तालिबान ने रिहा किए आतंकवादी !

प्राप्त जानकारी के मुताबिक तालिबान ने अफगानिस्तान की जेलों से जैश-ए-मोहम्मद के करीब 100 आतंकवादियों को रिहा कर दिया है। जिन्होंने वापस से अपने संगठन को ज्वाइन कर लिया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक जैश-ए-मोहम्मद जम्मू-कश्मीर में आतंकवादी हमले की योजना बना रहा है। जिसको लेकर सुरक्षा एजेंसियां जानकारियां एकत्रित कर रही हैं।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़