• जेटली ने विपक्षी पार्टी के नेताओं को ‘‘चुनावी हिंदू’’ करार दिया

जेटली ने प्रियंका की ओर से बुधवार को अमेठी में दिए गए इस बयान पर निशाना साधा कि उनकी पार्टी सपा-बसपा गठबंधन की संभावनाओं पर प्रतिकूल प्रभाव नहीं डालेगी, क्योंकि उसने अपने उम्मीदवार ऐसे तरीके से चुने हैं कि वे या तो जीतेंगे या भाजपा के वोट काटेंगे। भाजपा नेता ने कहा, ‘‘यह कांग्रेस के हाशिये के संगठन में बदलने के बारे में उनका इकबालिया बयान है....मुख्यधारा की पार्टी, भारतीय राजनीति की सबसे पुरानी पार्टी अब भारत में हाशिये का संगठन है।’’

नयी दिल्ली। भाजपा ने गुरूवार को कहा कि प्रियंका गांधी का यह कहना एक ‘‘इकबालिया बयान’’ है कि उत्तर प्रदेश में कांग्रेस भाजपा के वोट काटेगी। सत्ताधारी पार्टी ने कहा कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका ने कबूल कर लिया है कि उनकी पार्टी हाशिये का संगठन बनती जा रही है। भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं वित्त मंत्री अरुण जेटली ने चुनावों के दौरान कांग्रेस नेताओं के मंदिर जाने को लेकर उन्हें ‘‘चुनावी हिंदू’’ करार दिया और कहा कि पिछले चुनावों के दौरान उन्होंने ऐसा कभी नहीं किया और अब उन्हें ऐसा करने को मजबूर होना पड़ रहा है।

इसे भी पढ़ें: जेटली ने नकदी संकट से जूझ रही जेट एयरवेज पर गौर करने का दिया भरोसा

जेटली ने प्रियंका की ओर से बुधवार को अमेठी में दिए गए इस बयान पर निशाना साधा कि उनकी पार्टी सपा-बसपा गठबंधन की संभावनाओं पर प्रतिकूल प्रभाव नहीं डालेगी, क्योंकि उसने अपने उम्मीदवार ऐसे तरीके से चुने हैं कि वे या तो जीतेंगे या भाजपा के वोट काटेंगे। भाजपा नेता ने कहा, ‘‘यह कांग्रेस के हाशिये के संगठन में बदलने के बारे में उनका इकबालिया बयान है....मुख्यधारा की पार्टी, भारतीय राजनीति की सबसे पुरानी पार्टी अब भारत में हाशिये का संगठन है।’’

इसे भी पढ़ें: विपक्ष के तर्कों को जेटली ने किया खारिज, कहा- आतंकवाद जैसे मुद्दों का सामना कर रहा भारत

जेटली ने कहा कि कांग्रेस जवाहरलाल नेहरू और इंदिरा गांधी के जमाने में 300-400 सीटों वाली पार्टी हुआ करती थी, फिर वह राजीव गांधी के युग में 125-150 सीटों की पार्टी बन गई और अब वह 40-70 सीटों वाली पार्टी है। उन्होंने कहा कि 2009 के चुनाव अपवाद थे, जिसमें कांग्रेस ने 200 से ज्यादा सीटें जीती थी। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए जेटली ने कहा कि किसी जमाने में यह सोचा भी नहीं जा सकता था कि कांग्रेस के नेता ‘‘भारत के टुकड़े-टुकड़े करने की नारेबाजी’’ करने वालों का समर्थन करेंगे। जेटली संभवत: 2016 में राहुल गांधी के जेएनयू दौरे की तरफ इशारा कर रहे थे। राहुल तथाकथित देश-विरोधी नारेबाजी करने के आरोपी छात्रों के खिलाफ पुलिसिया कार्रवाई का विरोध करने वाले छात्रों के समूह के प्रति एकजुटता प्रदर्शित करने के लिए जेएनयू गए थे। कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह की ओर से भोपाल में साधुओं के एक समूह को आमंत्रित करने के बारे में पूछे गए एक सवाल पर जेटली ने विपक्षी पार्टी के नेताओं को ‘‘चुनावी हिंदू’’ करार दिया।