जेईई मेन परीक्षा: महाराष्ट्र के बाढ़ प्रभावित छात्रों को धर्मेंद्र प्रधान ने दिया तोहफा, कहा- मिलेगा एक और मौका

Dharmendra Pradhan
शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने एक ट्वीट में कहा कि महाराष्ट्र में भारी बारिश और भूस्खलन के मद्देनजर राज्य के विद्यार्थी समुदाय को राहत प्रदान करने के लिए मैंने राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (एनटीए) के महानिदेशक को सलाह दी है कि वे उन सभी अभ्यर्थियों को एक और मौका दें

नयी दिल्ली। केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने शनिवार को कहा कि महाराष्ट्र में भारी बारिश, भूस्खलन प्रभावित क्षेत्रों के जेईई-मुख्य परीक्षा के अभ्यर्थियों को परीक्षा में शामिल होने का एक और मौका मिलेगा। प्रधान ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘महाराष्ट्र में भारी बारिश और भूस्खलन के मद्देनजर राज्य के विद्यार्थी समुदाय को राहत प्रदान करने के लिए मैंने राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (एनटीए) के महानिदेशक को सलाह दी है कि वे उन सभी अभ्यर्थियों को एक और मौका दें, जोतीसरे सत्र में जेईई (मुख्य) परीक्षा में शामिल होने के लिए परीक्षा केंद्र पर पहुंचने में सक्षम नहीं हों।’’ 

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र में बाढ़ और भूस्खलन से 82 लोगों की मौत, अभी भी 59 लोग लापता, रायगढ़ सबसे अधिक प्रभावित 

उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘कोल्हापुर, पालघर, रत्नागिरी, रायगढ़, सिंधुदुर्ग, सांगली, सातारा के वे विद्यार्थी जो 25 और 27 जुलाई को जेईई (मुख्य) परीक्षा-2021 के तीसरे सत्र में शामिल हो पाने में असमर्थ हैं, उन्हें घबराने की जरूरत नहीं है। उन्हें दूसरा अवसर दिया जाएगा और राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी इस संबंध में जल्द ही तारीख़ों की घोषणा करेगी।’’ महाराष्ट्र में भारी बारिश के बाद विभिन्न हिस्सों में आई बाढ़ और भूस्खलन की घटनाओं के बाद कम से कम 76 लोगों की मौत हो गई और 38 लोग घायल हैं तथा 59 लापता हैं। तटीय कोंकण क्षेत्र के रायगढ़ और रत्नागिरी जिले के हिस्से और पश्चिमी महाराष्ट्र के कोल्हापुर जिले बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित हैं। इसके अलावा सातारा जिले के भी कई हिस्सों में भारी बारिश हो रही है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़