• जम्मू-कश्मीर के DGP दिलबाग सिंह का बयान, ड्रोन का IED बम के तौर पर इस्तेमाल, भीड़ में धमाके की थी साजिश

अधिकारियों ने बताया कि शहर के सतवारी क्षेत्र में पहले विस्फोट से हवाई प्रतिष्ठान के तकनीकी क्षेत्र में एक इमारत की छत ढह गई। इस स्थान की देखरेख का जिम्मा वायुसेना उठाती है और दूसरा विस्फोट छह मिनट बाद जमीन पर हुआ।

जम्मू। जम्मू कश्मीर के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) दिलबाग सिंह ने रविवार को जम्मू हवाईअड्डे पर वायुसेना के अधिकारक्षेत्र वाले हिस्से में हुए दो धमाकों को आतंकवादी हमला करार दिया। उन्होंने बताया कि पुलिस, वायुसेना और अन्य एजेंसियां हमले की जांच कर रही हैं।

इसे भी पढ़ें: राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष जेपी नड्डा ने भाजपा कार्यसमिति की बैठक को संबोधित किया

सिंह ने इस बात की पुष्टि की है कि यह धमाके दो ड्रोन को IED बम के तौर पर इस्तेमाल किया गया है। इसके टुकड़े बरामद किए गए हैं। उन्होंने आगे बताया कि, बड़े धमाके की साजिश थी जिसे अब नाकाम कर दिया गया है। जम्मू-कश्मीर के डीजीपी ने न्यूज एजेंसी एएनआई से कहा कि, इस नाकाम आईईडी विस्फोट के प्रयास में और भी संदिग्धों के पकड़े जाने की संभावना है। पुलिस अन्य एजेंसियों के साथ जम्मू हवाई क्षेत्र में हुए विस्फोटों पर भी काम कर रही है। प्राथमिकी दर्ज और जांच जारी है। उन्होंने आगे बताया कि, जम्मू पुलिस ने 5-6 किलोग्राम वजन का एक और आईईडी बरामद किया है। यह IED लश्कर-ए-तैयबा के ऑपरेटिव द्वारा प्राप्त किया गया था और इसे किसी भीड़-भाड़ वाली जगह पर लगाया जाना था ताकि बड़े हमले किए जा सके।

 

इसे भी पढ़ें: अपने जन्मस्थली पहुंचे राष्ट्रपति कोविंद ने कहा- सपने में भी नहीं सोचा था कि मुझे देश का सर्वोच्च पद मिलेगा

हवाईअड्डे पर वायुसेना के अधिकारक्षेत्र वाले हिस्से में बीती रात एक बजकर 40 मिनट पर विस्फोटकों से लदे दो ड्रोन गिरे जिससे छह मिनट के अंतराल पर दो धमाके हुए जिनमें वायुसेना के दो कर्मी घायल हो गए। अधिकारियों ने बताया कि शहर के सतवारी क्षेत्र में पहले विस्फोट से हवाई प्रतिष्ठान के तकनीकी क्षेत्र में एक इमारत की छत ढह गई। इस स्थान की देखरेख का जिम्मा वायुसेना उठाती है और दूसरा विस्फोट छह मिनट बाद जमीन पर हुआ।