पत्रकार प्रिया रमानी को मानहानि मामले में मिली जमानत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 25, 2019   19:08
पत्रकार प्रिया रमानी को मानहानि मामले में मिली जमानत

रमानी की तरफ से पेश हुई वरिष्ठ वकील रेबेका जॉन ने अदालत से कहा कि उनकी मुवक्किल जमानत की हकदार हैं क्योंकि मानहानि जमानत योग्य अपराध है।

नयी दिल्ली। दिल्ली की एक अदालत ने पूर्व केंद्रीय मंत्री एम जे अकबर की तरफ से दायर मानहानि मामले में पत्रकार प्रिया रमानी को सोमवार को जमानत दे दी। रमानी ने आरोप लगाए थे कि पत्रकार रहने के दौरान अकबर ने उनसे यौन दुर्व्यवहार किया था।  अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट समर विशाल ने दस हजार रुपये के निजी मुचलके और इतनी ही राशि के मुचलके पर उनकी जमानत मंजूर की।

रमानी की तरफ से पेश हुई वरिष्ठ वकील रेबेका जॉन ने अदालत से कहा कि उनकी मुवक्किल जमानत की हकदार हैं क्योंकि मानहानि जमानत योग्य अपराध है। रमानी ने आवेदन देकर मामले में व्यक्तिगत पेशी से भी छूट की मांग की।अकबर के लिए पेश होने वाले वकीलों ने याचिका का विरोध किया। अदालत ने अकबर को निर्देश दिया कि सुनवाई की अगली तारीख दस अप्रैल को रमानी के आवेदन पर जवाब दाखिल करें।

इसे भी पढ़ें: मोदी ने राष्ट्र को नेशनल वॉर मेमोरियल किया समर्पित, गांधी-नेहरू परिवार पर साधा निशाना

रमानी ने सुनवाई के बाद मीडिया से कहा, ‘‘सुनवाई की मेरी अगली तारीख 10 अप्रैल है...अब अपनी कहानी बताने की मेरी बारी है। सच्चाई ही मेरा बचाव है।’’ इससे पहले अदालत ने रमानी को पेश होने के निर्देश दिए थे और कहा था कि अकबर के खिलाफ लगाए गए आरोप ‘‘प्रथमदृष्ट्या मानहानिपूर्ण’’ हैं। अकबर ने सभी आरोपों को ‘‘गलत और मनगढ़ंत’’ बताए। रमानी ने अकबर पर करीब 20 वर्ष पहले यौन दुर्व्यवहार करने के आरोप लगाए जब वह पत्रकार थे। अकबर ने आरोपों से इनकार किया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।