कमलनाथ कोई उद्योग नहीं लाए, ट्रांसफर उद्योग जमकर चलायाः ज्योतिरादित्य सिंधिया

Jyotiraditya Scindia
दिनेश शुक्ल । Oct 31, 2020 11:12PM
मलनाथ ने 15 माह तक प्रदेश में जमकर ट्रांसफर उद्योग चलाया। वल्लभ भवन में बैठकर दलाली करते रहे। उनके पास प्रदेश की जनता के पास जाने का समय नहीं था। प्रदेश में ओलावृष्टि हुई, गांव-गांव में पानी घुस गया, लेकिन कमलनाथ एक भी किसान के पास नहीं गए, वल्लभ भवन में बैठकर नोट गिनते रहे।

दतिया। मध्य प्रदेश सरकार में मंत्री और डबरा से भाजपा प्रत्याशी इमरती देवी के लिए प्रचार करने पहुँचे  ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि 15 साल बाद मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार आई थी। उम्मीद थी कि ये महासेठ, अंतरराष्ट्रीय स्तर के उद्योगपति प्रदेश में उद्योग लाएंगे और बेरोजगार युवाओं को रोजगार देंगे, लेकिन इन महासेठ ने कोई उद्योग तो नहीं लगाया, मगर कांग्रेस के नेताओं को जरूर रोजगार दे दिया। कमलनाथ ने 15 माह तक प्रदेश में जमकर ट्रांसफर उद्योग चलाया। वल्लभ भवन में बैठकर दलाली करते रहे। उनके पास प्रदेश की जनता के पास जाने का समय नहीं था। प्रदेश में ओलावृष्टि हुई, गांव-गांव में पानी घुस गया, लेकिन कमलनाथ एक भी किसान के पास नहीं गए, वल्लभ भवन में बैठकर नोट गिनते रहे। 

इसे भी पढ़ें: इमरती देवी के लिए सभा करने पहुँच सीएम ने कहा धोखेबाज कांग्रेस और कमलनाथ को सबक सिखाना है

सिंधिया ने कहा कि 15 महीनों में कमलनाथ ने भ्रष्टाचार को ही शिष्टाचार बना दिया। उस समय उन्होंने सिर्फ नोट की चिंता की और अब वोट की चिंता कर रहे हैं। सिंधिया ने कहा कि मंच पर उपस्थित हम सभी लोग यहीं जन्मे हैं, लेकिन कमलनाथ का जन्म कहां पर हुआ है? एक परदेश बाबू यहां आए, कुर्सी पर बैठे, भ्रष्टाचार किया और अब तीन तारीख के बाद चले जाएंगे। सिंधिया ने कहा कि एक हमारे मुख्यमंत्री शिवराज जी हैं, जो तीन-तीन घंटे तक हर मंत्री की बात सुनते हैं। दूसरे पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ हैं, जो अपनी कैबिनेट की साथी महिला को आयटम कहते हैं। सिंधिया ने कहा कि कमलनाथ ने आपके घर की बेटी, बहू इमरती देवी का अपमान किया है और इस अपमान को तीन तारीख को याद रखना है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ का अहंकार देखिये कि उन्होंने कांग्रेस नेता राहुल गांधी के कहने पर भी माफी नहीं मांगी और अब जब चुनाव आयोग ने उनके खिलाफ आदेश जारी कर दिया, तो उसे भी हवा में उड़ा रहे हैं। कांग्रेस ने किसानों को कर्जमाफी के नाम पर धोखा दिया और अन्नदाताओं से गद्दारी करने वाले कांग्रेस के कमलनाथ और दिग्विजय सिंह को मैंने धूल चटा दी। उन्होंने कहा कि यह चुनाव इमरती देवी का चुनाव नहीं है, बल्कि यह शिवराज जी, नरोत्तम जी और ज्योतिरादित्य सिंधिया का चुनाव है। इसलिए आने वाली तीन तारीख को प्रदेश के विकास को संकल्पित मेरी और शिवराज जी की जोड़ी को आशीर्वाद प्रदान करें, शिव-ज्योति एक्सप्रेस को आशीर्वाद दें।

इसे भी पढ़ें: हाँ मैं कुत्ता हूँ, सुन लीजिए कमलनाथ जी मैं कुत्ता हूँ अपनी जनता का- ज्योतिरादित्य सिंधिया

वही इस दौरान गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने भी सभा को संबोधित किया उन्होनें कहा कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार हमेशा से विकास की पक्षधर रही है, लेकिन कांग्रेस ने कभी भी विकास की बात नहीं की। कांग्रेस हमेशा से प्रदेश को बंटाढार करने में लगी रही। 2003 से पहले मध्य प्रदेश की जो स्थिति थी वह किसी से छिपी नहीं है। कांग्रेस की सरकार में न बिजली होती थी, न सड़कें होती थीं और न ही पानी की व्यवस्था होती थी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के शासनकाल में चंबल के बीहड़ों में डाकुओं का आतंक था। यदि कोई बच्चा अपने घर से जाता था तो जब तक वह घर नहीं लौटता था परिजनों को चिंता लगी रहती थी, लेकिन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने चंबल के बीहड़ों से डाकुओं का पूरी तरह से सफाया कर दिया। वही मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान, राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया एवं गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने डबरा नगर में भारतीय जनता पार्टी की प्रत्याशी श्रीमती इमरती देवी के समर्थन में रोड शो किया। 5 कि.मी. लंबे रोड शो में अपने नेताओं का स्वागत करने के लिए सड़क पर जनसैलाब उमड़ा। इस दौरान घर की छतों से फूलों की वर्षा होती रही तो वहीं नेताओं के लिए जय-जयकार के नारे भी लगते रहे। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़