विधायकों को बिकाऊ कहने पर कमलनाथ पर बरसे कमल पटेल, कहा क्या पूरी कांग्रेस बिकाऊ है

Kamal Patel lashed out at Kamal Nath
दिनेश शुक्ल । Oct 27, 2020 2:23PM
कमल पटेल ने सवाल किया कि कमलनाथ क्या यह कह कहना चाहते हैं कि पूरी कांग्रेस बिकाऊ है, वह अपनी पार्टी का अपमान कर रहे हैं। मंत्री कमल पटेल ने फिर दोहराया कि कांग्रेस में लोकतंत्र नहीं बचा है, कांग्रेस उद्योगपति कमलनाथ की प्राइवेट लिमिटेड बनकर रह गई है।

भोपाल। कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो रहे विधायकों को बिकाऊ कहने पर कृषि मंत्री कमल पटेल पूर्व मुख्यमंत्री व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ पर बरस पड़े। कमल पटेल ने कहा कि कमलनाथ की प्राइवेट लिमिटेड बनी कांग्रेस में नेताओं का दम घुट रहा है, इसलिए वह पार्टी छोड़ रहे हैं। कमल पटेल ने कहा कि कमलनाथ को इसकी भनक पहले ही लग चुकी थी, इसलिए वह सदन में भी 35 करोड़ के ऑफर मिलने की बात कहकर दावा करने लगे थे कि उनके विधायक बिकाऊ नहीं हैं। लेकिन इसके बाद भी वह अपने विधायकों को रोक नहीं पाए। इसलिये अब उन्हें बिकाऊ कहना शुरू कर दिया।

इसे भी पढ़ें: कमलनाथ अब क्यों दहाड़े मार रहे है, 15 महीनों में एक हैंडपंप तक नहीं लगवाया- सिंधिया

मंत्री कमल पटेल ने सवाल किया कि कमलनाथ क्या यह कह कहना चाहते हैं कि पूरी कांग्रेस बिकाऊ है, वह अपनी पार्टी का अपमान कर रहे हैं। मंत्री कमल पटेल ने फिर दोहराया कि कांग्रेस में लोकतंत्र नहीं बचा है, कांग्रेस उद्योगपति कमलनाथ की प्राइवेट लिमिटेड बनकर रह गई है। इससे वहां जनप्रतिनिधियों का दम घुटने लगा और उन्होंने भाजपा का दामन थाम लिया। कमल पटेल ने कहा कि कांग्रेस अब पूरी तरह खत्म है, कांग्रेस के नेताओं को भी पता चल गया है कि प्रदेश में भाजपा का ही भविष्य है। कमल पटेल ने कहा कि कमलनाथ और कांग्रेस ने प्रदेश के किसानों, युवाओं, महिलाओं और वंचितों को ठगा है, कर्ज माफ नहीं करने से डिफॉल्टर हुए किसानों को संकट का सामना करना पड़ा, इन्हें सबक सिखाने का समय आ गया है। उन्होंने लोगों से उपचुनाव में भाजपा के पक्ष में मतदान करने की अपील की है। जिससे प्रदेश के किसानों और आम जनता से धोखाधड़ी करने वाली कांग्रेस का पूरी तरह सफाया किया जा सके।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़