केरल बीजेपी अध्यक्ष का बड़ा बयान, कहा- राज्य में बनेगी हमारी सरकार

केरल बीजेपी अध्यक्ष का बड़ा बयान, कहा- राज्य में बनेगी हमारी सरकार

ऐसे में बीजेपी के अनुभवी अध्यक्ष के सुरेंद्र अपनी पूरी ताकत झोंक रहे हैं के सुरेंद्रन ने हाल ही में एक इंटरव्यू में दावा किया है कि बीजेपी केरल में सरकार बनाएगी।

केरल में 6 अप्रैल को होने वाले चुनाव में अपनी जगह बनाने में जुटी बीजेपी ने ऐलान किया है कि वह राज्य में 115 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी ।जबकि 25 सीटों पर सहयोगी दल चुनाव लड़ेंगे ।हालांकि केरल को लेफ्ट का गढ़ माना जाता है। यहां लेफ्ट का काफी प्रभाव देखने को मिलता है ।मौजूदा समय में भी यहां लेफ्ट की ही सरकार है और पिनराई वीजन मुख्यमंत्री हैं।

पिछले विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने भले ही यहां  कोई खास कारनामा नहीं किया हो ,लेकिन इस बार बीजेपी 40 प्लस सीटें जीतने का दावा कर रही है। ऐसे में बीजेपी के अनुभवी अध्यक्ष के सुरेंद्र अपनी पूरी ताकत झोंक रहे हैं के सुरेंद्रन ने हाल ही में एक इंटरव्यू में दावा किया है कि बीजेपी केरल में सरकार बनाएगी।

उन्होंने कहा कि यहां सभी निर्वाचन क्षेत्रों मैं त्रिकोणीय मुकाबला होने जा रहा है ।अगर हमें 35-40- सीटें मिलती है तो कांग्रेस CPI(M) , मुस्लिम लीग और अन्य दलों से लोग बीजेपी में आएंगे ,उन्होंने कहा कि पहले से ही सीपीएम और यूडीएफ के कई सदस्य बीजेपी में शामिल हो रहे हैं और यूडीएफ से कई और लोगों के हमसे जुड़ने की उम्मीदें हैं।

इसके अलावा मलमपूझा, त्रिपुनित्तूरा जैसे सीटों पर भी बीजेपी बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद कर रही है। मलम पूझा में बीजेपी के कैंडिडेट कृष्णनं कुमार काफी लोकप्रिय हैं ,जो पिछली बार सीपीएम के नेता वी. एस के सामने दूसरे स्थान पर रहे थे।

केरल में बीजेपी के अध्यक्ष के .सुरेंद्रन ने लव जिहाद का मुद्दा उठाते हुए कहा कि हमारी सत्ता यदि प्रदेश में आती है तो हम इसके खिलाफ कानून बनाएंगे उन्होंने यह भी कहा कि प्रदेश में लव जिहाद के कई मामले हुए हैं लेकिन किसी भी केस की जांच नहीं कराई गई है।

बता दें कि बीजेपी शासित राज्य यूपी, एमपी मे लव जिहाद को लेकर कानून बन चुके हैं। अब केरल में भी यह मुद्दा उठाकर बीजेपी ने संकेत दिया है कि वह ध्रुवीकरण के मुद्दों को चुनाव में तेज करने वाली है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।