कुतुबुद्दीन ऐबक ने नहीं, राजा विक्रमादित्य ने कराया था कुतुबमीनार का निर्माण? किया जाता था सूर्य का अध्ययन

Qutub Minar
Creative Common
अभिनय आकाश । May 18, 2022 5:28PM
कुतुबमीनार को लेकर अब एक नया दावा सामने आया है। जिसमें कहा गया है कि इसका निर्माण कुतुबुद्दीन ऐबक ने नहीं बल्कि राजा विक्रमादित्य ने करवाया था। इसके साथ ही कहा गया है कि ये सन टावर है। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) के पूर्व क्षेत्रीय निदेशक धर्मवीर शर्मा की तरफ से दावा किया है।

दिल्ली के कुतुब मीनार परिसर में मौजूद मस्जिद में पूजा-पाठ की मांग अब अदालती दरवाजे पर है। भले ही याचिका पर सुनवाई केस से जुड़े वकील विष्णु शंकर के मौजूद रहने की वजह से 24 मई को होगी। इन तमाम कवायदों के बीच कुतुबमीनार को लेकर अब एक नया दावा सामने आया है। जिसमें कहा गया है कि इसका निर्माण कुतुबुद्दीन ऐबक ने नहीं बल्कि राजा विक्रमादित्य ने करवाया था। इसके साथ ही कहा गया है कि ये सन टावर है। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) के पूर्व क्षेत्रीय निदेशक धर्मवीर शर्मा की तरफ से दावा किया है कि कुतुबमीनार का निर्माण राजा विक्रमादित्य ने किया था। इसका निर्माण सूर्य की दिशा का अध्ययन करने के लिए किया गया था। 

इसे भी पढ़ें: कुतुबमीनार के सामने लगे जय हनुमान और जय श्रीराम, हिन्दू संगठनों ने नाम बदलकर विष्णु स्तंभ करने की मांग करते हुए किया प्रदर्शन

एएसआई के पूर्व क्षेत्रीय निदेशन धर्मवीर शर्मा ने दावा किया है कि कुतुब मीनार नहीं बल्कि एक सन टावर (वेधशाला टावर) है। इसका निर्माण कुतुब अल-दीन ऐबक द्वारा नहीं बल्कि 5वीं शताब्दी में राजा विक्रमादित्य द्वारा किया गया था। उन्होंने कहा कि इस बारे में मेरे पास काफी सबूत हैं और एएसआई की तरफ से मैंने कई बार कुतुब मीनार का सर्वे किया है। कुतुब मीनार की मीनार में 25 इंच का झुकाव है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इसे सूर्य का निरीक्षण करने के लिए बनाया गया था।  ऐसा इसलिए है क्योंकि 21 जून को इसे सूरज को देखने के लिए बनाया गया। टावर का झुकाव होने से करीब आधे घंटे तक छाया उस ओर नहीं पड़ती। यह वैज्ञानिक एवं पुरातत्विक तथ्य है।'  

इसे भी पढ़ें: दक्षिणपंथी समूह के सदस्यों ने कुतुब मीनार के बाहर हनुमान चालीसा का पाठ किया

बता दें कि 21 जून को सूर्य पृथ्वी के उत्तरी गोलार्द्ध के लंबवत होता है जिसके कारण सूर्य की किरणें कर्क रेखा पर सीधी पड़ती हैं। यह साल का सबसे लंबा दिन होता है। उन्होंने कहा कि इसलिए जिसे कुतुब मीनार कहा जाता है वह एक स्वतंत्र संरचना है और इसके पास की मस्जिद से संबंधित नहीं है। कुतुब मीनार का दरवाजा भी उत्तर दिशा में है। यानी रात के आसमान में ध्रुव तारे को देखना। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़