अब तक 2.25 लाख तीर्थयात्री कर चुके हैं अमरनाथ के दर्शन, 30 जून से शुरू हुई थी यात्रा

amarnath yatra
ANI
अंकित सिंह । Jul 25, 2022 1:56PM
ताजा खबर के मुताबिक आज ही जम्मू स्थित आधार शिविर से 3,800 से अधिक तीर्थयात्रियों का 25वां जत्था दक्षिण कश्मीर में 3,880 मीटर की ऊंचाई पर स्थित अमरनाथ गुफा के दर्शन के लिए पहलगाम और बालटाल आधार शिविरों के लिए रवाना हुआ।

जम्मू-कश्मीर में इस साल एक बार फिर से अमरनाथ यात्रा को दो साल के बाद शुरू किया गया था। यह 30 जून से शुरू हुई थी। अब तक अब तक 2.25 लाख से अधिक यात्री इस पवित्र गुफा में बने हिम शिवलिंग के दर्शन कर चुके हैं। ताजा खबर के मुताबिक आज ही जम्मू स्थित आधार शिविर से 3,800 से अधिक तीर्थयात्रियों का 25वां जत्था दक्षिण कश्मीर में 3,880 मीटर की ऊंचाई पर स्थित अमरनाथ गुफा के दर्शन के लिए पहलगाम और बालटाल आधार शिविरों के लिए रवाना हुआ। 125 वाहनों के काफिले में कुल 3,862 तीर्थयात्री केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल की कड़ी सुरक्षा के बीच भगवती नगर यात्री निवास से रवाना हुए।

इसे भी पढ़ें: चीन और पाकिस्तान को सख्त चेतावनी देते हुए राजनाथ बोले- यदि कोई युद्ध हुआ, तो भारत बनेगा विजेता

पहले 46 वाहनों में 1,835 तीर्थयात्री बालटाल के लिए भगवती नगर शिविर से रवाना हुए और इसके बाद 79 वाहनों में 2,027 यात्री पहलगाम रवाना हुए। अधिकारियों के नुताबिक अभी तक 2.25 लाख से अधिक तीर्थयात्री पवित्र गुफा में बने हिम शिवलिंग के दर्शन कर चुके हैं। बाबा बर्फानी के दर्शन के लिए 43 दिन की वार्षिक यात्रा दक्षिण कश्मीर के पहलगाम में पारंपरिक 48 किलोमीटर लंबे नुनवान मार्ग और मध्य कश्मीर के गांदरबल में 14 किलोमीटर लंबे बालटाल मार्ग से 30 जून को शुरू हुई थी। अभी तक 135,585 तीर्थयात्री भगवती नगर आधार शिविर से रवाना हो चुके हैं। 

इसे भी पढ़ें: अमरनाथ यात्रा को लेकर महबूबा मुफ्ती ने बीजेपी पर बोला हमला, कहा- घर में घुसकर मारेंगे जैसा सलूक करने वालों का करना होगा मुकाबला

यात्रा 11 अगस्त को रक्षाबंधन पर समाप्त होगी। यात्रा के दौरान अभी तक 36 लोगों की विभिन्न वजहों से मौत हो चुकी है। इनके अलावा आठ जुलाई को गुफा मंदिर के पास अचानक आई बाढ़ में 15 तीर्थयात्रियों की जान चली गई थी। दूसरी ओर थल सेना की उत्तरी कमान के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल उपेंद्र द्विवेदी ने कश्मीर घाटी में सुरक्षा स्थिति का जायजा लिया और सैनिकों को संघर्ष में सीखे गये सबक याद रखने की सलाह दी। उत्तरी कमान के रक्षा प्रवक्ता ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि लेफ्टिनेंट जनरल ने अमरनाथ यात्रा के लिए सुरक्षा उपायों की भी समीक्षा की। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़