कोटा में फंसे छात्रों को लाने के लिए 100 बसें भेजेगी महाराष्ट्र सरकार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 28, 2020   10:41
कोटा में फंसे छात्रों को लाने के लिए 100 बसें भेजेगी महाराष्ट्र सरकार

महाराष्ट्र के परिवहन मंत्री अनिल परब ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार ने कोटा गए छात्रों को वापस लाने का फैसला किया है। हम इसके लिए धुले जिले से करीब 100 बसें कोटा भेजेंगे।

मुंबई। महाराष्ट्र के परिवहन मंत्री अनिल परब ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार ने लॉकडाउन की वजह से राजस्थान के कोटा में फंसे लगभग 2,000 छात्रों को वापस लाने के लिए वहां 100 बसों को भेजने का फैसला किया है। परब ने सोमवार देर रात कहा कि महाराष्ट्र राज्य सड़क परिवहन निगम (एमएसआरटीसी) की बसों को अगले दो दिनों में कोटा भेजा जाएगा। विभिन्न प्रतियोगी प्रवेश परीक्षाओं की तैयारी के लिए महाराष्ट्र के छात्र कोटा में रह कर पढ़ाई कर रहे हैं। परब ने कहा, ‘‘महाराष्ट्र सरकार ने कोटा गए छात्रों को वापस लाने का फैसला किया है। हम इसके लिए धुले जिले से करीब 100 बसें कोटा भेजेंगे।’’ 

इसे भी पढ़ें: प्रधानमंत्री के साथ बैठक के बाद मुख्यमंत्रियों की राय, जानें किस प्रदेश के सीएम ने क्या कहा? 

मंत्री ने कहा कि छात्रों को पहले मध्य प्रदेश की सीमा से सटे महाराष्ट्र के धुले जिले में लाया जाएगा और फिर राज्य परिवहन की बसों द्वारा उन्हें उनके मूल स्थानों पर भेजा जाएगा। एमएसआरटीसी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि इस प्रक्रिया के लिए राजस्थान और मध्य प्रदेश की सरकारों के साथ आधिकारिक बातचीत पहले ही हो चुकी है, क्योंकि बसें इन दोनों राज्यों से होकर गुजरेंगी। महाराष्ट्र आपदा प्रबंधन विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि वापसी पर, छात्रों और उनके माता-पिता को चिकित्सा जांच से गुजरना होगा, फिर उन्हें 14 दिन के पृथक-वास में भेजा जाएगा। महाराष्ट्र सरकार ने इस संकेत के बाद छात्रों को वापस लाने का फैसला किया कि कुछ प्रमुख शहरों में लॉकडाउन बढ़ाया जा सकता है जहां कोरोना वायरस महामारी की स्थिति अभी नियंत्रित नहीं हो पायी है।

इसे भी देखें : Hotspots में ही बढ़ेगा 3 May के बाद Lockdown, PM Modi की मुख्यमंत्रियों के साथ लंबी चर्चा 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।