मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दी प्रदेशवासीयों को ईद की बधाई

मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दी प्रदेशवासीयों को ईद की बधाई

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ईद उल फितर की प्रदेश के मुस्लिम धर्मावलंबियों को बधाई दी है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि रमजान माह की समाप्ति पर यह पर्व खुशियों का पैगाम लेकर आता है। इस समय कोरोना के संकट के कारण परस्पर मिल-जुलकर त्यौहार मनाए जाने का संयोग नहीं हो पा रहा।

भोपाल। मध्य प्रदेश में सोमवार को ईद उल फितर का त्यौहार मनाया गया। रविवार शाम चाँद दिखने के बाद लोगों ने एक दूसरे को ईद की मुबारकबाद देना शुरू कर दिया था। कोरोना संक्रमण के चलते हालंकि इस बार सामूहिक नमाज़ नहीं हुई। भोपाल शहर काजी ने सभी मुस्लिम धर्मपंथियों से अपील की थी कि वह अपने घर पर ही नमाज़ अता करें। इस मौके पर प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ईद उल फितर की प्रदेश के मुस्लिम धर्मावलंबियों को बधाई दी है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि रमजान माह की समाप्ति पर यह पर्व खुशियों का पैगाम लेकर आता है। इस समय कोरोना के संकट के कारण परस्पर मिल-जुलकर त्यौहार मनाए जाने का संयोग नहीं हो पा रहा। सोशल डिस्टेंसिंग के साथ सभी समुदाय अपने त्यौहार और पर्व मना रहे हैं। मुख्यमंत्री ने ईद पर पारम्परिक सद्भाव और भाईचारे को मजबूत बनाते हुए पर्व मनाने का आग्रह किया है। 

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री के निर्देश कलेक्टर्स जिले की बस्तियों में कोरोना नियंत्रण पर रखें नज़र

वही राज्यपाल लालजी टंडन ने प्रदेशवासियों को ईद उल फितर की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं दी हैं। उन्होंने प्रदेश की खुशहाली तरक्की और सबके मंगल की कामना की है। राज्यपाल टंडन ने कहा है कि रमजान की इबादत और कड़ी तपस्या करने के बाद ईद की खुशियां ईश्वर की तरफ से इनाम है। इस बार समाज और देश की भलाई के लिए हम सब एक साथ मिलकर अपनी इबादत और खुशियां नहीं मना पाए है। देश-हित में मिलने-जुलने और घर से बाहर नहीं निकलने की सलाह का पालन करते हुए हमने ईद की खुशियों के साथ सामाजिक सरोकारों को पूरा करने में जो अनुशासन, समरसता और एकता दिखाई है। उसके लिए प्रदेशवासी दोहरी बधाई के पात्र हैं। उन्होंने कहा है कि हम सब प्रदेश की तरक्की, सबकी खुशहाली और ऐसी स्थिति फिर कभी पैदा नहो इसकी दुआ करें।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।