पाकिस्तान की जेल में रिहा होगा मध्यप्रदेश का व्यक्ति, अगले सप्ताह लौटेगा स्वदेश

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 28, 2021   17:14
पाकिस्तान की जेल में रिहा होगा मध्यप्रदेश का व्यक्ति, अगले सप्ताह लौटेगा स्वदेश

पाकिस्तान की जेल में बंद मध्यप्रदेश का व्यक्ति अगले सप्ताह स्वदेश लौटेगा।एसपी ने कहा कि शुक्रवार को सूचना मिली है कि पाकिस्तान प्रहलाद को भारत को सौंप देगा। पुलिस का एक दल और उसका परिवार उसे वापस लाने के लिए अमृतसर रवाना हो रहा है।

सागर (मप्र)। मध्यप्रदेश के सागर जिले के एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि अनजाने में पड़ोसी देश पाकिस्तान में प्रवेश करने के बाद वहां की जेल में लंबे समय तक बंद रहा 57 वर्षीय व्यक्ति रिहा होकर अगले सप्ताह अपने घर वापस लौटेगा। सागर के पुलिस अधीक्षक (एसपी) अतुल सिंह ने शनिवार को बताया कि जिला मुख्यालय से करीब 46 किलोमीटर दूर गौरझामर थाना क्षेत्र के घोसी पट्टी गांव का निवासी प्रहलाद सिंह को 30अगस्त को वाघा सीमा पर भारत को सौंपा जाएगा। अधिकारी ने बताया कि वह व्यक्ति 30 साल पहले अपने घर से लापता हो गया था और जनवरी 2014 में मध्यप्रदेश सरकार को यह पता चला कि वह पाकिस्तान की जेल में बंद है। उन्होंने बताया कि पुलिस ने 2014 में प्रहलाद को पाकिस्तान से वापस लाने के लिए पहचान और पत्राचार की प्रक्रिया शुरू की थी।

इसे भी पढ़ें: 2 साल से नहीं भर पाया बच्चों की फीस,डिप्रेशन के चलते मौत के घाट उतर गया पूरा परिवार

एसपी ने कहा कि शुक्रवार को सूचना मिली है कि पाकिस्तान प्रहलाद को भारत को सौंप देगा। पुलिस का एक दल और उसका परिवार उसे वापस लाने के लिए अमृतसर रवाना हो रहा है। अधिकारी ने कहा कि अभी फिलहाल यह पता नहीं चल सका है कि प्रहलाद कब और कैसे पाकिस्तान पहुंचा। इस बीच, गौरझामर पुलिस थाना प्रभारी अरविंद सिंह ठाकुर ने कहा कि प्रहलाद के परिवार ने दावा किया कि वह मानसिक तौर पर कमजोर था और वर्ष 2014 में एक टेलीविजन कार्यक्रम में उसका चेहरा पहचाने जाने के बाद उन्हें पता चला कि वह पाकिस्तान की जेल में बंद है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।