मध्यप्रदेश: चाय बेचने वाले की बेटी बनी फ्लाइंग ऑफिसर, मुख्यमंत्री ने दी बधाई

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 23, 2020   10:01
मध्यप्रदेश: चाय बेचने वाले की बेटी बनी फ्लाइंग ऑफिसर, मुख्यमंत्री ने दी बधाई

सुरेश ने बताया कि आंचल छठे प्रयास में इस परीक्षा को पास करने में सफल रही। उन्होंने कहा, मैं पिछले करीब 25 साल से चाय की दुकान चलाता हूं। इसलिए कोई भी मेरी आर्थिक स्थिति के बारे में समझ सकता है कि यह कैसी है?

भोपाल। मध्यप्रदेश के नीमच में चाय बेचने वाले की बेटी आंचल गंगवाल (24) भारतीय वायुसेना में फ्लाइंग ऑफिसर बन गईं हैं। आंचल के पिताजी सुरेश गंगवाल मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल से करीब 400 किलोमीटर दूर नीमच में बस स्टैंड पर पिछले करीब 25 साल से एक छोटी सी चाय की दुकान चलाते हैं। सुरेश गंगवाल ने सोमवार को बताया, वर्ष 2013 में उत्तराखंड के केदारनाथ में आई भीषण त्रासदी के बाद वायुसेना के कर्मचारी बहादुरी से वहां लोगों की मदद करने में लगे थे। इसे आंचल ने देखा था और तब से ही फ्लाइंग ऑफिसर बनने का सपना देखा था, जो अब साकार हुआ है।

इसे भी पढ़ें: आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश के लिए प्राप्त किए जाएंगे सुझाव

उन्होंने कहा कि अपने सपने को साकार करने के लिए आंचल ने किताबें एकत्र कीं और परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी। सुरेश ने बताया कि आंचल छठे प्रयास में इस परीक्षा को पास करने में सफल रही। उन्होंने कहा, मैं पिछले करीब 25 साल से चाय की दुकान चलाता हूं। इसलिए कोई भी मेरी आर्थिक स्थिति के बारे में समझ सकता है कि यह कैसी है? हाई स्कूल पास सुरेश ने बताया, कई बार मेरे पास अपनी बेटी की स्कूल या कॉलेज की फीस भरने के लिए पैसे भी नहीं होते थे। कई बार मैंने लोगों से उधार लेकर उसकी फीस भरी।

उन्होंने कहा कि उसका फ्लाइंग ऑफिसर बनना हमारे लिए गर्व की बात है। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट किया, नीमच में चाय की दुकान लगाने वाले सुरेश गंगवाल जी की बेटी आंचल अब वायुसेना में फाइटर प्लेन उड़ाएगी। मध्यप्रदेश को गौरवान्वित करने वाली बेटी आंचल अब देश के गौरव और सम्मान की रक्षा के लिए अनंत आकाश की ऊंचाइयों में उड़ान भरेगी। बेटी को बधाई, आशीर्वाद और शुभकामनाएं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।