महाराष्ट्र सरकार ने चक्रवात राहत के लिए 252 करोड़ रूपये का राहत पैकेज मंजूर किया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 28, 2021   08:38
महाराष्ट्र सरकार ने चक्रवात राहत के लिए 252 करोड़ रूपये का राहत पैकेज मंजूर किया

महाराष्ट्र सरकार ने चक्रवात प्रभावित तटीय जिलों के लोगों के लिए 252 करोड़ रूपये का राहत पैकेज मंजूर किया है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल की साप्ताहिक बैठक में यह निर्णय लिया गया।

मुंबई। महाराष्ट्र सरकार ने चक्रवात प्रभावित तटीय जिलों के लोगों के लिए 252 करोड़ रूपये का राहत पैकेज मंजूर किया है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल की साप्ताहिक बैठक में यह निर्णय लिया गया। अधिकारियों ने बताया कि 252 करोड़ रूपये की राहत राशि राष्ट्रीय आपदा मोचन कोष (एनडीआरएफ) के तहत केंद्र सरकार द्वारा नियमों के अंतर्गत बनने वाली रकम से अधिक ही है। एनडीआरएफ नियमों के तहत करीब 72 करोड़ बनेगा।

इसे भी पढ़ें: ‘टूलकिट’ मामले में दिल्ली पुलिस की जांच को कांग्रेस ने गैरकानूनी बताया, जांच से खुद को हटाया

अधिकारियों ने बताया कि अतिरिक्त व्यय राज्य वहन करेगा। सरकार ने कहा है कि जिस किसी व्यक्ति की मौत हो गयी है, उसके परिवार को एनडीआरएफ नियमों के तहत चार लाख रूपये और राज्य के कोष से एक लाख रूपये दिये जायेंगे। मुख्यमंत्री कार्यालय से जारी बयान के अनुसार जिन लोगों का मकान पूरी तरह नष्ट हो गया है उन्हें 1,50,000-1, 50,000 रूपये दिये जाएंगे।

इसे भी पढ़ें: भारत सरकार बनाम ट्विटर: केंद्र ने कहा- सोशल मीडिया और फोन कॉल पर नजर रखने के लिए कोई नया नियम नहीं

जिनके मकान को 50 फीसद नुकसान पहुंचा है, उन्हें पचास-पचास हजार रूपये और जिनके मकान को 25 फीसद नुकसान पहुंचा है, उन्हें 25-25 हजार रूपये मिलेंगे। पंद्रह फीसद नुकसान वाले मकान और क्षतिग्रस्त झुग्गियों के लिए 15-15 हजार रूपये दिये जाएंगे। चक्रवाती तूफान ताउते गुजरात पहुंचने से पहले महाराष्ट्र पहुंचा था और उसने बड़ा नुकसान पहुंचाया था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।