मनीष सिसोदिया का बड़ा आरोप, कहा- बीजेपी ने MCD को कर दिया दिवालिया

  •  अभिनय आकाश
  •  जनवरी 14, 2021   19:20
  • Like
मनीष सिसोदिया का बड़ा आरोप, कहा- बीजेपी ने MCD को कर दिया दिवालिया

दिल्ली के उप मुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा ने दिल्ली में उत्तर नगर निगम के पास 12 करोड़ रुपये हैं और ईस्ट एमसीडी के पास 99 लाख रुपये हैं। इनके ऊपर दिल्ली सरकार का 6,276 करोड़ रुपये का लोन भी बकाया है।

दिल्ली सरकार और नगर निगम के बीच टकराव देखने को मिल रहा है और आरोप-प्रत्यारोप का भी दौर जारी है। दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने भारतीय जनता पार्टी शासित नगर निगम को लेकर गंभीर सवाल उठाए हैं। सिसोदिया ने उत्तर और पूर्व की एमसीडी को दिवालिया कर दिया है। दिल्ली के उप मुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा ने दिल्ली में उत्तर नगर निगम के पास 12 करोड़ रुपये हैं और ईस्ट एमसीडी के पास 99 लाख रुपये हैं। इनके ऊपर दिल्ली सरकार का 6,276 करोड़ रुपये का लोन भी बकाया है। 

इसे भी पढ़ें: मनीष सिसोदिया ने कहा, बर्ड फ्लू में शिक्षकों को निरीक्षण ड्यूटी में नहीं लगाया जाएगा

सिसोदिया ने 13500 करोड़ रुपये के बकाए को लेकर एमसीडी को पत्र भी लिखा था। इसके साथ ही दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि दिल्ली सरकार के कई विभागों के बजट को कम करने के बाद हम नगर निगम कर्मचारियों के वेतन का भुगतान करने के लिए 938 करोड़ रुपये जारी कर रहे हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


दिल्ली HC ने स्कूलों में विशेष शिक्षकों की नियुक्ति का अनुरोध नहीं भेजने पर SDMC को लगाई फटकार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 25, 2021   15:18
  • Like
दिल्ली HC ने स्कूलों में विशेष शिक्षकों की नियुक्ति का अनुरोध नहीं भेजने पर SDMC को लगाई फटकार

अदालत ने स्कूलों में विशेष शिक्षकों की नियुक्ति का अनुरोध नहीं भेजने पर एसडीएमसी को फटकार लगाई है।न्यायमूर्ति नज्मी वजीरी ने कहा कि अधिकारियों को ऐसे लोगों के प्रति काम करने को लेकर इच्छाशक्ति प्रदर्शित करनी चाहिए जिन्हें विशेष देखभाल की जरूरत है लेकिन उनका आचरण ऐसे व्यक्तियों के प्रति लापरवाही दर्शाता है।

नयी दिल्ली। दिल्ली उच्च न्यायालय ने दक्षिणी दिल्ली नगर निगम (एसडीएमसी) द्वारा संचालित स्कूलों में विशेष शिक्षकों के 1,100 से अधिक रिक्त पदों पर भर्ती का अनुरोध दिल्ली अधीनस्थ सेवा चयन बोर्ड (डीएसएसएसबी) को नहीं भेजने पर नगर निकाय को फटकार लगाई और साथ में 25,000 रुपये का जुर्माना भी लगा दिया। न्यायमूर्ति नज्मी वजीरी ने कहा कि अधिकारियों को ऐसे लोगों के प्रति काम करने को लेकर इच्छाशक्ति प्रदर्शित करनी चाहिए जिन्हें विशेष देखभाल की जरूरत है लेकिन उनका आचरण ऐसे व्यक्तियों के प्रति लापरवाही दर्शाता है।

इसे भी पढ़ें: जानें कहां और कैसे बनता है भारत का तिरंगा, केवल इस कंपनी के पास है काॅन्ट्रैक्ट

अदालत ने कहा कि 18 दिसंबर 2020 को निगम को प्रक्रिया तेज करने तथा डीएसएसएसबी को रिक्त पदों पर भर्ती का तत्काल अनुरोध भेजने का निर्देश दिया गया था लेकिन चार हफ्ते से भी अधिक वक्त बीत जाने के बावजूद निगम ने ऐसा कुछ नहीं किया जिससे कि प्रक्रिया शुरू की जा सके। इसने कहा कि निगम पर पच्चीस हजार रुपये का जुर्माना लगाया जाता है जिसका वह दो हफ्ते के भीतर याचिकाकर्ता को भुगतान करे। इसके साथ ही अदालत ने सुनवाई की अगली तारीख 10 फरवरी तय कर दी। अदालत गैर सरकारी संगठन ‘सोशल ज्यूरिस्ट’ की दिल्ली सरकार, डीएसएसएसबी तथा दिल्ली नगर निगमों के खिलाफ दाखिल अवमानना याचिका पर सुनवाई कर रही थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


अब बंगाल में 'जय श्री राम' बनाम 'हरे कृष्ण हरे राम, विदा हो बीजेपी-वाम' का नारा गूंजेगा

  •  अनुराग गुप्ता
  •  जनवरी 25, 2021   15:17
  • Like
अब बंगाल में 'जय श्री राम' बनाम 'हरे कृष्ण हरे राम, विदा हो बीजेपी-वाम' का नारा गूंजेगा

हुबली में एक जनसभा को संबोधित करती हुई ममता बनर्जी ने 'हरे कृष्ण हरे राम, विदा हो बीजेपी-वाम' का नारा दिया। दरअसल, नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में ममता बनर्जी जैसे ही पहुंचीं तो भाजपा कार्यकर्ताओं ने जय श्री राम का उद्घोष किया।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर अब सियासत गर्माती जा रही है। राजनीतिक दलों के बीच में अब 'नारा' नया विषय बन गया है। हाल ही में भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को 'जय श्री राम' के नारे को लेकर निशाना साधा था और पूछा था कि वह अपमानित क्यों महसूस कर रही थीं। राजनीति में पक्की खिलाड़ी मानी जाने वाली ममता बनर्जी को भी चुनावों के लिए कुछ नया और रोचक नारा चाहिए था। जो अब उन्हें मिल भी गया है।

हुबली में एक जनसभा को संबोधित करती हुई ममता बनर्जी ने 'हरे कृष्ण हरे राम, विदा हो बीजेपी-वाम' का नारा दिया। दरअसल, नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में ममता बनर्जी जैसे ही पहुंचीं तो भाजपा कार्यकर्ताओं ने जय श्री राम का उद्घोष किया। भगवान राम के उद्घोष से मुख्यमंत्री बनर्जी नाराज हो गईं और सरकारी कार्यक्रम में अपमान का आरोप लगाते हुए उन्होंने भाषण देने से इनकार कर दिया। जिसके बाद भाजपा नेता से लेकर कार्यकर्ता उन पर निशाना साध रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: ममता बनर्जी ने नहीं लगाएं ‘जय श्री राम’ के नारे, शिवसेना नेता संजय राउत का आया कमेंट 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, हुबली की रैली में ममता बनर्जी ने कहा कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस सभी के नेता हैं... वे मुझे प्रधानमंत्री के सामने चिढ़ा रहे थे... मैं बंदूकों में विश्वास नहीं करती हूं, मैं राजनीति में विश्वास करती हूं। भाजपा ने नेताजी का, बंगाल का, रवींद्रनाथ टैगोर का सभी का अपमान किया है। बता दें कि ममता बनर्जी ने अपना भाषण बांग्ला भाषा में दिया।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


उधमपुर में बारूदी सुरंग की चपेट में आने से शहीद हुए सैन्यकर्मी का अंतिम संस्कार हुआ

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 25, 2021   15:13
  • Like
उधमपुर में बारूदी सुरंग की चपेट में आने से शहीद हुए सैन्यकर्मी का अंतिम संस्कार हुआ

जम्मू कश्मीर के उधमपुर में बारूदी सुरंग की चपेट में आकर शहीद हुए निशांत शर्मा का सोमवार को सहारनपुर जिले में अंतिम संस्कार कर दिया गया। उत्तर प्रदेश के मंत्री धर्म सिंह सैनी और प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों समेत हजारों लोगों ने जवान को श्रद्धांजलि दी।

सहारनपुर (उत्तरप्रदेश)। जम्मू कश्मीर के उधमपुर में बारूदी सुरंग की चपेट में आकर शहीद हुए निशांत शर्मा का सोमवार को सहारनपुर जिले में अंतिम संस्कार कर दिया गया। उत्तर प्रदेश के मंत्री धर्म सिंह सैनी और प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों समेत हजारों लोगों ने जवान को श्रद्धांजलि दी। शहीद निशांत शर्मा का अन्तिम संस्कार अम्बाला रोड स्थित श्मशान घाट परकिया गया। हाथों मे तिरंगा लिये लोग ‘जब तक सूरज चांद रहेगा निशांत शर्मा तेरा नाम रहेगा’ के नारे लगा रहे थे।

इसे भी पढ़ें: राहुल गांधी के बयान पर शिवराज का पलटवार, पूछा- इतना बड़ा झूठ बोलते हुए शर्म नहीं आई?

सेना की एक टीम ने श्मशान घाट पहुंचकर शहीद को श्रद्धांजलि दी। सहारनपुर के शारदा नगर निवासी निशांत शर्मा (30) जम्मू कश्मीर में तैनात थे और पिछले सोमवार को उधमपुर में गश्त के दौरान बारूदी सुरंग की चपेट में आकर गम्भीर रूप से घायल हो गये थे। जम्मू के सैन्य अस्पताल में उनका उपचार चल रहा था लेकिन रविवार को उनकी मौत हो गयी।

इसे भी पढ़ें: स्वतंत्रता सेनानी मौलवी अहमदुल्ला शाह के नाम पर रखा जा सकता है अयोध्या में मस्जिद का नाम

सहारनपुर के जिलाधिकारी अखिलेश सिंह ने बताया, ‘‘उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शहीद के परिजन को 50 लाख रुपये की आर्थिक मदद और परिवार के एक व्यक्ति को सरकारी नौकरी तथा सहारनपुर जिले की एक सड़क शहीद निशांत शर्मा के नाम पर करने की घोषणा की है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept