माता श्री चिंतपूर्णी चैत्र नवरात्र मेला 2 अप्रैल से 10 अप्रैल तक

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 29, 2022   15:48
माता श्री चिंतपूर्णी चैत्र नवरात्र मेला 2 अप्रैल से 10 अप्रैल तक

एडीसी ने बताया कि मेले के दौरान श्रद्धालुओं की सुरक्षा के दृष्टिगत मेला अवधि के दौरान नारियल मंदिर में ले जाने पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा। नारियल मंदिर के मुख्य गेट से पहले डीएफएमडी के स्थान पर लाईन में ही यात्रियों से जमा कर लिए जाएंगे।

ऊना  माता श्री चिंतपूर्णी चैत्र नवरात्र मेला इस वर्ष 2 अप्रैल से 10 अप्रैल तक आयोजित होगा। यह जानकारी अतिरिक्त उपायुक्त ऊना डॉ. अमित कुमार शर्मा ने मेले के सफल आयोजन के लिए चिंतपूर्णी सदन में आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए दी।

 

उन्होंने बताया कि एसडीएम अंब मेला अधिकारी होंगे, जबकि डीएसपी अंब को पुलिस मेला अधिकारी नियुक्त किया गया है। मेले के दौरान कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने के लिए मेला क्षेत्र को चार सैक्टर में बांटा गया है, जिसमें सेक्टर एक शिव मंदिर भरवाईं से मिरगू बैरियर तक, सेक्टर दो मिरगू, चिंतपूर्णी सदन से पुराना बस अड्डा व तलवाड़ा बाई पास तक, तीसरा सेक्टर डीएफएमडी, अस्पताल, समनोली बैरियर से तालाब तक तथा चौथा सेक्टर मंदिर प्रेवश द्वार से दर्शन स्थल, मुंडन स्थल, लिफ्ट, लक्कड़ बाजार से शंभू बैरियर शामिल है। उन्होंने कहा कि लगभग 450 पुलिस व होमगार्ड जवान तैनात किए जाएंगे।

इसे भी पढ़ें: शक्तिपीठों में नवरात्रों में सीसीटीवी के माध्यम से होगी निगरानी: डीसी

एडीसी ने बताया कि मेले के दौरान श्रद्धालुओं की सुरक्षा के दृष्टिगत मेला अवधि के दौरान नारियल मंदिर में ले जाने पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा। नारियल मंदिर के मुख्य गेट से पहले डीएफएमडी के स्थान पर लाईन में ही यात्रियों से जमा कर लिए जाएंगे।

इसे भी पढ़ें: भाजपा हर विधानसभा क्षेत्र में मनाएगी 6 अप्रैल को स्थापना दिवस

श्रद्धालुओं के लिए दर्शन पर्ची अनिवार्य होगी तथा यह पर्ची चिंतपूर्णी सदन, नया बस अड्डा तथा शंभू बैरियर से प्राप्त की जा सकती है। डॉ. अमित कुमार शर्मा ने कहा कि मेले के दौरान श्रद्धालुओं को आपातकालीन चिकित्सा सुविधा सुनिश्चित करने को चिंतपूर्णी अस्पताल 24 घंटे अपनी सेवाएं प्रदान की जाएंगी। उन्होंने मेले के दौरान श्रद्धालुओं को स्वच्छ व साफ-सुथरा पेयजल मुहैया करवाने के लिए आईपीएच विभाग को पेयजल स्रोतों की समुचित पेयजल आपूर्ति सुनिश्चित बनाने के निर्देश दिए।

इसे भी पढ़ें: हिमाचल में सडक हादसे में तीन की मौत , सीएम ने हादसे को दुखद बताया

उन्होंने मेले के दौरान प्लास्टिक के प्रयोग को रोकने के लिए डीएफएससी ऊना की टीम को मेला क्षेत्र का निरीक्षण करने के निर्देश दिए ताकि पॉलिथीन के प्रयोग को रोका जा सके। एडीसी ने कहा कि सराए में लंगर लगाया जा सकेगा, लेकिन सड़क किनारे लंगर लगाने पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा ताकि किसी भी अप्रिय घटना से बचा जा सके।

इसके अतिरिक्त भिक्षावृत को रोकने के लिए मंदिर परिसर गेट नंबर एक व दो लुधियाना सराये तथा लिफ्ट के नजदीक पुलिस व गृह रक्षक तैनात रहेंगे। उन्होंने दुकानदारों का आहवान किया कि वह भिक्षा मांगने वालों को अपनी दुकानों के आगे न रूकने दें।

बैठक में एसडीएम अंब मनेश कुमार यादव, मंदिर अधिकारी रोहित जालटा, एसीएफ समिराज, एसडीओ टेम्पल राज कुमार जसवाल, एसएचओ कुलदीप सिंह, ट्रैफिक मैनेज़र एचआरटीसी दर्शन सिंह, डिप्टी कमांडेंट होम गार्ड धीरज शर्मा, बीएमओ राजीव गर्ग, बारीदार सभा के प्रधान रविंद्र शिंदा, ट्रस्टी व प्रधान ग्राम पंचायत छपरोह शशि बाला, ग्राम पंचायत मुईन एश्वर्या शर्मा सहित सहित अन्य उपस्थित रहे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।