महबूबा मुफ्ती ने कृषि कानूनों को तत्काल वापस लेने की मांग की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 28, 2021   17:43
महबूबा मुफ्ती ने कृषि कानूनों को तत्काल वापस लेने की मांग की

पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने बृहस्पतिवार को तीन कृषि कानूनों को तत्काल वापस लेने की मांग करते हुए कहा कि इन कानूनों को किसानों से बिना सलाह मशविरे के बनाया गया है।

जम्मू। पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने बृहस्पतिवार को तीन कृषि कानूनों को तत्काल वापस लेने की मांग करते हुए कहा कि इन कानूनों को किसानों से बिना सलाह मशविरे के बनाया गया है। मुफ्ती पार्टी के मामलों पर और भविष्य की रणनीति पर पीडीपी के वरिष्ठ नेताओं से चर्चा करने के लिए बुधवार को जम्मू पहुंची थीं। वह जम्मू क्षेत्र के सात दिन के दौरे पर हैं। उन्होंने उक्त टिप्पणी यहां गांधीनगर में की।

इसे भी पढ़ें: किसान नेताओं दीप सिद्धू के सिर फोड़ा हिंसा का ठीकरा, एक्टर ने किया पलटवार

दिल्ली में गणतंत्र दिवस पर भड़की हिंसा से संबंधित सवाल पर मुफ्ती ने पत्रकारों से कहा, मेरा मानना है कि सरकार को इन कानूनों को वापस लेना चाहिए। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें लगता है कि किसानों को बदनाम करने के लिए साजिश रची गई है। उन्होंने कहा, गणतंत्र दिवस संविधान के उत्सव का दिन है। जब आप कानून बनाते हैं और जब ये कानून संविधान की बुनियाद के खिलाफ होते हैं.... कृषि विधेयक ले लीजिए, किसानों से कभी सलाह-मशविरा नहीं लिया गया। उन्होंने कहा कि किसानों को डर लग रहा है। उन्होंने किसान समुदाय में डर को खत्म करने के लिए इस कानून को वापस लेने की मांग की। मुफ्ती ने दावा किया कि गणतंत्र दिवस पर हिसंक घटनाओं में शामिल लोग भाजपा के आदमी थे।

इसे भी पढ़ें: संसद में राष्ट्रपति के अभिभाषण का बहिष्कार करेगी आम आदमी पार्टी

पिछले साल नवंबर दिसंबर में हुए जिला विकास परिषद के चुनाव के बादजम्मू क्षेत्र की यह उनकी पहली यात्रा है। नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी समेत अलग अलग पार्टियों के गुपकर गठबंधन ने इस चुनाव में जीत दर्ज की और 280 में से 110 सीटें हासिल कीं। मुफ्ती पुंछ और राजौरी जिलों का दौरा भी करेंगी और चेनाब घाटी भी जाएंगी। वे पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ बातचीत करेंगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...