महबूबा मुफ्ती का विवादित बयान, 370 हटा तो जम्मू कश्मीर से खत्म होगा भारत का रिश्ता

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 30, 2019   19:46
महबूबा मुफ्ती का विवादित बयान, 370 हटा तो जम्मू कश्मीर से खत्म होगा भारत का रिश्ता

पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने अपने आवास पर पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा कि जेटली को यह समझना चाहिए। यह कहना आसान नहीं है। यदि आप (अनुच्छेद) 370 खत्म करते हैं तो जम्मू कश्मीर के साथ आपके संबंध समाप्त हो जाएंगे।

श्रीनगर। पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त करने की वकालत करने के लिए वित्त मंत्री अरुण जेटली पर पलटवार करते हुए शनिवार को कहा कि संविधान के अनुच्छेद 370 को यदि खत्म किया गया तो भारत संघ और राज्य के बीच संबंध समाप्त हो जाएगा। महबूबा ने यहां अपने आवास पर पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा कि जेटली को यह समझना चाहिए। यह कहना आसान नहीं है। यदि आप (अनुच्छेद) 370 खत्म करते हैं तो जम्मू कश्मीर के साथ आपके संबंध समाप्त हो जाएंगे।

इसे भी पढ़ें: शारदा पीठ खुलने से कम हो सकता है भारत-पाक के बीच तनाव: महबूबा

जेटली ने बृहस्पतिवार को जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करने की वकालत करते हुए कहा था कि अनुच्छेद 35ए जो जम्मू-कश्मीर में गैर-स्थायी निवासियों को संपत्ति खरीदने पर रोक लगाता है वह संवैधानिक रूप से दोषपूर्ण है और राज्य के आर्थिक विकास को बाधित कर रहा है। महबूबा ने कहा कि अनुच्छेद 370 भारत संघ और राज्य के बीच एक सेतु है और यदि संविधान के विशेष प्रावधान को खत्म किया गया तो नयी दिल्ली को जम्मू कश्मीर के साथ अपने संबंध ‘‘फिर से बातचीत करके तय करने होंगे

इसे भी पढ़ें: चुनाव के मद्देनजर केंद्र सरकार ने किया पाकिस्तान दिवस कार्यक्रम का बहिष्कार

उन्होंने कहा कि यदि आपने भारत के संविधान में हमें एक विशेष दर्जा दिया है और आप उस दर्जे को तोड़ते हैं तब हमें पुनर्विचार करना होगा कि क्या हम आपके साथ बिना शर्त रहना भी चाहते हैं या नहीं। इससे पहले नेशनल कान्फ्रेंस के नेता मोहम्मद अब्दुल्ला वानी और अवामी इंसाफ पार्टी प्रमुख गुलाम अहमद शेख सलूरा अपने समर्थकों के साथ पीडीपी में शामिल हो गए। महबूबा और पार्टी संरक्षक मुजफ्फर हुसैन बेग ने वानी और सलूरा का पार्टी में स्वागत किया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।