मध्यप्रदेश में भूकंप के हल्के झटके, अचानक रसोई के बर्तन गिरने से उड़ी लोगों की नींद

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 24, 2022   12:06
मध्यप्रदेश में भूकंप के हल्के झटके, अचानक रसोई के बर्तन गिरने से उड़ी लोगों की नींद

पश्चिमी मप्र में भूकंप के हल्के झटके महसूस किए गए।राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र के ट्वीट के मुताबिक भूकंप इंदौर से करीब 125 किलोमीटर दूर पश्चिमी निमाड़ अंचल में बृहस्पतिवार तड़के चार बजकर 53 मिनट दो सेकंड पर आया और इसकी तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 3.5 मापी गई।

इंदौर।मध्यप्रदेश के पश्चिमी हिस्से में बृहस्पतिवार तड़के भूकंप के हल्के झटके महसूस किए गए। हालांकि, इनसे जान-माल के नुकसान की कोई खबर नहीं है। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र के ट्वीट के मुताबिक भूकंप इंदौर से करीब 125 किलोमीटर दूर पश्चिमी निमाड़ अंचल में बृहस्पतिवार तड़के चार बजकर 53 मिनट दो सेकंड पर आया और इसकी तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 3.5 मापी गई। इस बीच, बड़वानी के जिलाधिकारी शिवराज सिंह वर्मा ने ‘‘पीटीआई-भाषा’’ को बताया,‘‘हमें पता चला है कि सेंधवा कस्बे में कई लोगों ने भूकंप के हल्के झटके महसूस किए।

इसे भी पढ़ें: कक्षा तीसरी से पोस्ट ग्रेजुएशन तक अच्छी शिक्षा दिलाना सरकार का ध्येय - मनोहर लाल

हालांकि, इससे जान-माल के नुकसान की फिलहाल कोई खबर नहीं है।’’ सेंधवा की विमल बाई ने बताया,‘‘मेरे परिवार के लोग चाय बना रहे थे कि हमने रसोई के बर्तन गिरते देखे।’’ सेंधवा के एक अन्य बाशिंदे कैलाश ने बताया,‘‘जब मैं अलसुबह जागा, तब मैंने चंद सेकंड तक दीवारों में कम्पन महसूस किया।’’ उन्होंने बताया कि भूकंप के वक्त उनकी पत्नी रसोई में बर्तनों की रैक के पास बैठी थीं। कैलाश ने बताया,‘‘भूकंप के दौरान बर्तन कुछ इस तरह हिले कि मेरी पत्नी को एक पल को लगा कि ये बर्तन उसके ऊपर गिर पड़ेंगे।’’ स्थानीय नागरिकों ने बताया कि सेंधवा के पास निवाली क्षेत्र में भी लोगों ने अपने घरों के खिड़की-दरवाजों के खड़खड़ाने की आवाजें सुनीं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।