बिहार के छपरा में मिशनरियों का खेल, लालच देकर बना रहे ईसाई, चर्च के निर्माण को लेकर विरोध तेज

Missionaries
Prabhasakshi
अभिनय आकाश । May 27, 2022 6:02PM
सदर प्रखंड में एक गाँव के पास चर्च बनाने को ले कर विवाद उठ खड़ा हुआ है। स्थानीय लोगों ने चर्च बनाने वालों पर आस-पास के लोगों का धर्मान्तरण करने का आरोप लगाया है। मामले की शिकायत प्रशासनिक अधिकारियों से भी की गई है। चर्च बनवा रहे लोग आंध्र प्रदेश के निवासी बताए जा रहे हैं।

बिहार में हिंदुओं को लालच देकर ईसाई बनाने का खेल बीते कुछ वक्त से समय-समय पर सामने आता रहता है। के सुम्हां रामचौड़ा गांव और मढ़ौरा में ईसाई मिशनरी प्रलोभन देकर करीब 500 से 600 ग्रामीणों को ईसाई बनाने की खबर के बाद अब  दलित समुदाय के लोगों के धर्म परिवर्तन और चर्च निर्माण की बात सामने आई है। सदर प्रखंड में एक गाँव के पास चर्च बनाने को ले कर विवाद उठ खड़ा हुआ है। स्थानीय लोगों ने चर्च बनाने वालों पर आस-पास के लोगों का धर्मान्तरण करने का आरोप लगाया है। मामले की शिकायत प्रशासनिक अधिकारियों से भी की गई है। चर्च बनवा रहे लोग आंध्र प्रदेश के निवासी बताए जा रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: बिहार के बाद UP पहुंची जातीय जनगणना की आंच, अखिलेश बोले- हम इसके पक्ष में, आगे क्यों नहीं बढ़ रही सरकार

डीएम और एसपी से शिकायत 

मामले में एसपी और डीएम को लिखित में शिकायत भी की गई है। लोगों का आरोप है कि आंध्र प्रदेश से आए कुछ लोग इलाके में सक्रिय हैं। लोगों को बहला फुसलाकर ईसाई धर्म अपनाने की सलाह दी जा रही है। डीएम के निर्देश पर एसडीओ और डीएसपी ने गांव का दौरा किया है। हालांकि प्रशासन इस मामले में फिलहाल कुछ भी बोलने से बच रहा है। गांव वालों ने प्रशासन को एक वीडियो भी उपलब्ध कराया है। इस वीडियो में कुछ लोग गांव के खेत में खड़े होकर प्रभु ईशा मसीह की प्रार्थना करते नजर आ रहे हैं।  

चर्च के निर्माण को लेकर हंगामा 

चर्च के निर्माण को लेकर वहां बवाल भी होता नजर आया। निर्माण स्थल पर बड़ी संख्या में स्थानीय लोगों का जमावड़ा हुआ। लोगों ने इमारत के निर्माण कार्य को बंद करवा दिया। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार निर्माणधीन भूमि पर पीपल के पेड़ के नीचे हनुमान की पूजा अर्चना भी की गई। इस दौरान गाँव वाले ‘जय श्रीराम’ का नारा लगाते नजर आए।  

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़