मदरसा छात्रों के लिए सीएम योगी की नई पहल, शिक्षा के लिए अब विकसित किया जाएगा मोबाइल ऐप

madrasa students
मदरसा छात्रों के लिए मोबाइल ऐप विकसित किया जाएगा।अंसारी ने बृहस्पतिवार को बताया कि उत्तर प्रदेश में मदरसों के छात्रों की सहूलियत के लिए उनके पाठ्यक्रम पर आधारित एक मोबाइल ऐपतैयार किया जाएगा और विभाग के 100 दिनों के कार्यक्रमों में इस परियोजना को भी शामिल किया गया है।

लखनऊ/बलिया। उत्तर प्रदेश के अल्पसंख्यक कल्याण राज्यमंत्री दानिश आजाद अंसारी ने कहा कि मदरसों के छात्रों की पढ़ाई में मदद के लिए उनके पाठ्यक्रम से संबंधित एक मोबाइल ऐप विकसित किया जाएगा। अंसारी ने बृहस्पतिवार को पीटीआई- को बताया कि उत्तर प्रदेश में मदरसों के छात्रों की सहूलियत के लिए उनके पाठ्यक्रम पर आधारित एक मोबाइल ऐपतैयार किया जाएगा और विभाग के 100 दिनों के कार्यक्रमों में इस परियोजना को भी शामिल किया गया है।

इसे भी पढ़ें: रमजान के दौरान रोजा रखने वाले कर्मचारियों को मिली राहत, इस राज्य सरकार ने ऑफिस ड्यूटी से दी एक घंटे की छूट

उन्होंने कहा कि आजकल मोबाइल फोन आम चलन में है और कोविड-19 महामारी के दौरान ऑनलाइन कक्षाओं की शुरुआत के बाद से स्कूल के छात्र-छात्राएं भी मोबाइल फोन का काफी इस्तेमाल करने लगे हैं। अंसारी ने कहा कि इसी को देखते हुए मदरसे के बच्चों को भी उनका पाठ्यक्रम दिलचस्प तरीके से पेश करने के लिए यह मोबाइल ऐप तैयार किया जा रहा है। अंसारी में बताया कि इस एप्लीकेशन के जरिए बच्चे अपने पाठ्यक्रम को स्मार्टफोन पर आसानी से पढ़ सकेंगे। उन्होंने कहा कि सूबे के कितने मदरसे इस योजना में शामिल किये जायेंगे, इसको लेकर शासन स्तर पर कार्यवाही की जा रही है। गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में कुल 16,461 मदरसे हैं जिनमें से 560 को सरकारी अनुदान प्राप्त होता है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़