खुद के खिलाफ दिए गए इन बयानों को मोदी ने बनाया चुनावी हथियार, कांग्रेस को लगातार मिली हार

Narendra Modi addresses
ANI
अंकित सिंह । Nov 22, 2022 2:14PM
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस पर पलटवार करते हुए साफ तौर पर कहा कि मेरी कोई औकात नहीं है। हमारी औकात तो बस सेवा देने की है। हालांकि, यह पहला मौका नहीं है जब प्रधानमंत्री मोदी ने कांग्रेस के नेताओं की ओर से दिए गए बयान को चुनावी हथियार बनाया है।

गुजरात में इस वक्त विधानसभा के चुनाव हो रहे हैं। भाजपा ने सत्ता वापसी के लिए अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। एक बार फिर से कांग्रेस के नेता ने एक इंटरव्यू के दौरान प्रधानमंत्री मोदी को औकात बताने की बात कही थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस पर पलटवार करते हुए साफ तौर पर कहा कि मेरी कोई औकात नहीं है। हमारी औकात तो बस सेवा देने की है। हालांकि, यह पहला मौका नहीं है जब प्रधानमंत्री मोदी ने कांग्रेस के नेताओं की ओर से दिए गए बयान को चुनावी हथियार बनाया है। इससे पहले भी ऐसे कई मौके आए हैं, जब मोदी ने कांग्रेसी नेताओं के बयान को चुनावी मुद्दा बनाकर भाजपा को जबरदस्त जीत दिलवाई है। आज हम आपको ऐसे ही मौकों के बारे में बताने जा रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: PM मोदी की तरफ से 71,000 युवाओं को नियुक्ति पत्र सौंपे जाने पर बोले तेजस्वी, देश की आबादी के हिसाब से कितनी नौकरी दे रहे हैं?

मौत का सौदागर

2007 के गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष और यूपीए की चेयरपर्सन सोनिया गांधी ने चुनावी रैली के दौरान गुजरात में दंगों का जिक्र किया था। उसके लिए मोदी को जिम्मेदार ठहराया था। इसी दौरान उन्होंने मोदी को मौत का सौदागर कह दिया था। भाजपा ने इस बयान को गुजरात चुनाव में खूब उठाया। जब चुनावी नतीजे आए तो कांग्रेस मात्र 59 सीटों पर सिमट गई। चुनाव में भाजपा को 116 सीटें मिली थी। 

नीच की राजनीति

2014 के लोकसभा चुनाव से पहले प्रियंका गांधी ने अमेठी और रायबरेली में चुनाव प्रचार के दौरान मोदी पर हमला कहते हुए कहा कि नीच की राजनीति। बीजेपी ने इसे मोदी की जाति से जोड़ दिया। खुद प्रधानमंत्री ने अमेठी में एक रैली के दौरान कहा था कि मैं नीची जाति में पैदा जरूर हुआ हूं लेकिन नीच स्तर की राजनीति नहीं करता। इसके बाद चुनावी नतीजे जब आए तो कांग्रेस को बुरी तरीके से हार मिली थी। भाजपा पूर्ण बहुमत के साथ सरकार में थी। 

मणिशंकर अय्यर का चाय वाला बयान

2014 के चुनाव से पहले ही कांग्रेस के नेता मणिशंकर अय्यर ने नरेंद्र मोदी को चाय वाला कह दिया था। उन्होंने कहा था कि यदि मोदी चाय बेचने आते हैं तो कांग्रेस उनका स्वागत करेगी। यह बयान मणिशंकर अय्यर के साथ-साथ कांग्रेस पर भी भारी पड़ गया। देश में नरेंद्र मोदी ने खुद को चायवाला कहकर प्रचारित किया। नतीजे भी भाजपा के पक्ष में आए। 

इसे भी पढ़ें: PM मोदी ने 71,000 से ज्यादा युवाओं को दिया ज्वाइनिंग लेटर, कहा- सरकारी नौकरी देने के लिए मिशन मोड में काम कर रही सरकार

मणिशंकर अय्यर का एक और बयान

2017 के गुजरात चुनाव से पहले भी मणिशंकर अय्यर ने मोदी के खिलाफ बयान देते हुए नीच शब्द का प्रयोग किया था। मणिशंकर अय्यर का यह बयान कांग्रेस के लिए काल साबित हुआ। मोदी और भाजपा ने इसे बड़ा मुद्दा बनाया। कांग्रेस की ओर से डैमेज कंट्रोल की भी कोशिश हुई। लेकिन भाजपा ने पूरी चुनावी बाजी को पलटते हुए एक बार फिर से गुजरात में सरकार बनाने में सफलता हासिल की।

चौकीदार चोर है

2019 के लोकसभा चुनाव से पहले राफेल डील को लेकर राहुल गांधी ने नरेंद्र मोदी पर जमकर निशाना साधा था और कहा था कि चौकीदार चोर है। जवाब में भाजपा और खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से एक नारा दे दिया गया था मैं भी चौकीदार हूं। यह मामला 2019 के लोकसभा चुनाव में खूब बड़ा मुद्दा बना। नतीजे भाजपा के पक्ष में आए। भाजपा मोदी के नेतृत्व में एक बार फिर से पूर्ण बहुमत के साथ सरकार में आई। 

अन्य न्यूज़