तीन साल में पर्यावरण नियम उल्लंघन के 2,877 मामले दर्ज किए गए : सरकार

Ashwani Kumar Chaubeyy
ANI Photo.
पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन राज्य मंत्री अश्विनी चौबे ने एक सवाल के लिखित जवाब में उच्च सदन को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि परिवेश पोर्टल पर उपलब्ध सूचना के अनुसार, पिछले तीन साल के दौरान देश भर में ऐसे 2,877 मामले दर्ज किए गए हैं।

नयी दिल्ली| सरकार ने बृहस्पतिवार को राज्यसभा में कहा कि पिछले तीन साल के दौरान देश भर में पर्यावरण नियमों के उल्लंघन के कुल 2,877 मामले दर्ज किए गए और आंध प्रदेश में सबसे अधिक 1280 ऐसे मामले सामने आए।

पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन राज्य मंत्री अश्विनी चौबे ने एक सवाल के लिखित जवाब में उच्च सदन को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि परिवेश पोर्टल पर उपलब्ध सूचना के अनुसार, पिछले तीन साल के दौरान देश भर में ऐसे 2,877 मामले दर्ज किए गए हैं।

उन्होंने कहा कि आंध्र प्रदेश में सबसे ज्यादा 1280 ऐसे मामले दर्ज किए गए जबकि तमिलनाडु में 663, तेलंगाना में 156, महाराष्ट्र में 126 और गुजरात में 109 मामले दर्ज किए गए।

चौबे ने कहा कि केंद्र सरकार ने देश भर में पर्यावरण नियमों के उल्लंघनों की निगरानी एवं नियंत्रण के लिए कई कदम उठाए हैं। उन्होंने कहा कि देश के विभिन्न भागों में 19 एकीकृत क्षेत्रीय कार्यालय (आईआरओ) स्थापित किए गए हैं।

इन आईआरओ को भी उल्लंघनकर्ताओं के विरुद्ध उचित कार्रवाई करने के लिए पर्यावरण (संरक्षण) अधिनियम, 1986 की धारा 19 के तहत प्राधिकृत किया गया है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़