MP बच्चों के वैक्सीनेशन में पहले पायदान पर, 20 जनवरी तक लगने है वैक्सीन

MP बच्चों के वैक्सीनेशन में पहले पायदान पर, 20 जनवरी तक लगने है वैक्सीन

बच्चों को वैक्सीनेशन के मामले में भी मध्य प्रदेश नंबर वन बना है। कल वैक्सीन लगाने वाले बच्चों से चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने मुलाकात की थी। चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि जिन बच्चों को वैक्सीन लगा चुके हैं वो ब्रांड एंबेसडर के तौर पर काम करें। अगर किसी को डर है, तो टोल फ्री नंबर 1075 पर कॉल कर सकते है।

भोपाल। कैबिनेट बैठक से पहले मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बताया कि 15 से 18 साल के बच्चों का वैक्सीनेशन किया जा रहा है। मंत्री अपने-अपने प्रभार वाले जिलों में वैक्सीनेशन की सीधी कमांड संभालें।

15 से 18 साल उम्र में एक दिन में सबसे अधिक वैक्सीनेशन होने पर बधाई भी दी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि 20 जनवरी तक बच्चों को वैक्सीन लगाना है। बच्चों को वैक्सीनेशन होने से सुरक्षा चक्र मिलेगा।

इसे भी पढ़ें:जेल में बंद कैदी सोशल मीडिया पर लगातार सक्रीय, जेल प्रबंधन पर खड़े हुए सवाल 

बच्चों को वैक्सीनेशन के मामले में भी मध्य प्रदेश नंबर वन बना है। कल वैक्सीन लगाने वाले बच्चों से चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने मुलाकात की थी। चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि जिन बच्चों को वैक्सीन लगा चुके हैं वो ब्रांड एंबेसडर के तौर पर काम करें। अगर किसी को डर है, तो टोल फ्री नंबर 1075 पर कॉल कर सकते है। 

वहीं सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी के आंकड़ों पर मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा कि मप्र में बेरोजगारी सबसे कम है। इसका कारण कोरोनाकाल में भी प्रदेश में उद्योग लगाना और निवेश आना रहा है। 2019 से करीब 40 प्रतिशत अधिक है। विपरीत परिस्थिति में भी रोजगार बढ़े हैं।

इसे भी पढ़ें:भागवत कथा वाचक तरुण मुरारी बापू ने किया राष्ट्रपिता का अपमान, पुलिस ने दर्ज किया मामला 

उन्होंने आगे कहा कि स्वामी विवेकानंद जयंती को रोजगार दिवस के रूप मनाया जाएगा। 12 जनवरी को लगभग 3 लाख लोगों को लोन दिया जाएगा। और इसके साथ ही रोजगार के लिए लोन दिए जाएंगे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।