सांसद सुरेश कश्यप ने लोक सभा मे उठाया शिमला हवाई अड्डे का मुद्दा

सांसद  सुरेश कश्यप ने लोक सभा मे उठाया शिमला हवाई अड्डे का मुद्दा

सुरेश कश्यप ने लोक सभा मे बताया की शिमला में एयर अलायन्स का एटीआर 42 एयरक्राफ्ट आता था जो आते समय 30 से 35 यात्रियों को लाता था और वापसी पर 8 से 10 यात्रियों को ले जाता था। उन्होंने केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया से सिफारिश करते हुए कहा की शिमला के लिए हवाई सेवाओं को जल्द से जल्द बहाल करना चाहिए जिससे इस क्षेत्र को फायदा पहुंचेगा।

शिमला ।  भाजपा प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद सुरेश कश्यप ने लोक सभा मे माननीय सभापति के सामने शिमला ज़िला में स्थापित हवाई अड्डे के मुद्दे ज़ोर शोर से उठाया।

उन्होंने अपने भाषण में कहा कि शिमला शहर एक ऐतिहासिक पर्यटन स्थल है और पूरे विश्व के मानचित्र पर पहचान रखता है, जब से कोविड का कठिन समय देश मे आया था तब से इस हवाई अड्डे पर हवाई सेवाएं रोक दी गयी थी। 2020 से अभी तक शिमला के हवाई अड्डे पर कोई विमान नहीं उतरा है जिससे इस क्षेत्र के पर्यटन पर भी बड़ा असर पड़ा है। 

सुरेश कश्यप ने लोक सभा मे बताया की शिमला में एयर अलायन्स का एटीआर 42 एयरक्राफ्ट आता था जो आते समय 30 से 35 यात्रियों को लाता था और वापसी पर 8 से 10 यात्रियों को ले जाता था। उन्होंने केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया से सिफारिश करते हुए कहा की शिमला के लिए हवाई सेवाओं को जल्द से जल्द बहाल करना चाहिए जिससे इस क्षेत्र को फायदा पहुंचेगा। 

 

इसे भी पढ़ें: प्रदेश ने नवंबर में वस्तु एवं सेवा कर के संग्रह में 17 प्रतिशत की बढ़ोतरी के साथ जीएसटी से 385.21 करोड़ रुपए जुटाए

 

सांसद सुरेश कश्यप ने कुछ समय पहले शिमला हवाई अड्डे की एक बैठक भी ली थी जहाँ उन्होंने इस संदर्भ में सभी समस्याओं पर चिंतन भी किया था, कश्यप ने कहा था कि जल्द ही वह लोक सभा में इस मुद्दे तो उठाएंगे।  शिमला के लिए इस प्रकार की सुविधा की लंबित मांग है और इससे जनता को बड़ी सुविधा मिलेगी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...