बिहार में जल बिन मछली बनकर रह गए मुकेश सहनी, नीतीश मंत्रिमंडल से भी बर्खास्त

बिहार में जल बिन मछली बनकर रह गए मुकेश सहनी, नीतीश मंत्रिमंडल से भी बर्खास्त

पार्टी के तीनों विधायकों ने पहले ही अपना पाला बदल लिया तो अब खुद मुकेश सहनी की भी मंत्रिमंडल से छुट्टी हो गई है। बड़ी खबर यह है कि मुकेश सहनी को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर दिया है।

बिहार में विकासशील इंसान पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुकेश सहनी को लेकर राजनीति अपने चरम पर है। फिलहाल मुकेश सहनी की राजनीति बिहार में जल बिन मछली बनकर रह गई है। पार्टी के तीनों विधायकों ने पहले ही अपना पाला बदल लिया तो अब खुद मुकेश सहनी की भी मंत्रिमंडल से छुट्टी हो गई है। बड़ी खबर यह है कि मुकेश सहनी को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर दिया है। जानकारी के मुताबिक मुख्यमंत्री ने मुकेश सहनी को मंत्रिमंडल से हटाने के लिए राज्यपाल से अनुमोदन पहले ही कर दिया था।

इसे भी पढ़ें: सुशासन की स्थापना को और मजबूती के साथ आगे बढ़ाएं : योगी आदित्‍यनाथ

दूसरी ओर मुकेश सहनी ने लिखा कि मेरे सोलह महीने के मंत्री कार्यकाल में मैंने राज्य के तेरह करोड़ जनता की सेवा करने का कोशिश किया, सभी जाती धर्म के लोगों के लिए काम किया। बिहार के भविष्य के लिए पशुपालन एवं मत्स्य क्षेत्र में कुछ निर्णायक कार्य को गति प्रदान किया। बिहार की समस्त जनता, NDA के सभी सहयोगी दल एवं माननीय मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार जी को मुझे यह अवसर देने के लिए आभार। मैं निषाद समाज को SC/ST आरक्षण, अतिपिछड़ा समाज के आरक्षण को 15% बढ़ाने एवं बिहार और बिहारियों के सम्मान और सम्पूर्ण विकास के लड़ाई के लिए समर्पित हूँ।

इसे भी पढ़ें: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सुरक्षा में बड़ी चूक, स्टेज पर चढ़कर युवक ने किया हमला, वीडियो वायरल

इससे पहले भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) द्वारा पिछले विधानसभा चुनाव में सहनी को राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) में लाया गया था। उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार, भाजपा के एक ‘‘लिखित निवेदन’’ के बाद मुख्यमंत्री ने राज्यपाल से मत्स्य और पशुपालन मंत्री सहनी को मंत्रिमंडल से निष्कासित करने की सिफारिश की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर बार-बार हमला करने के कारण बॉलीवुड के पूर्व सेट डिजाइनर सहनी से भाजपा काफी नाराज थी। सहनी की पार्टी ने उत्तर प्रदेश में 50 से अधिक सीटों पर चुनाव लड़ा था, लेकिन उसे कोई सफलता नहीं मिली। खुद को ‘सन ऑफ मल्लाह’ कहने वाले सहनी को पिछले सप्ताह तब बड़ा झटका लगा जब वीआईपी के तीन विधायक पाला बदलते हुए भाजपा में शामिल हो गए। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।