गोरखपुर केस में आरोपी मुर्तजा का बड़ा कबूलनामा, CAA-NRC के गुस्से में किया मंदिर में हमला

Murtaza
अभिनय आकाश । Apr 07, 2022 12:12PM
गोरखपुर मंदिर में हमला के आरोपी अब्बास मुर्तजा ने कहा कि उस दिन कि घटना का जिक्र करते हुए कहा कि कोई काम करने से पहले उसकी वजह भी तो होनी चाहिए। तो मैं खुद को समझा रहा था कि देखों मुसलमानों के साथ जुल्म हो रहा है।

गोरखपुर केस में मुर्तजा अब्बासी का बड़ा कबूलनामा सामने आया है। उसे ऐसा लगता है कि सीएए एनआरसी में मुसलमानों के साथ गलत हुआ। उसे ऐसा लगता था कि देश में मुसलमानों के साथ गलत व्यवहार किया जा रहा है। इसलिए उसने नाराजगी के चलते ये बड़ा फैसला लिया कि वो यहां पर हमला करेगा। हालांकि आरोपी के कबूलनामे के बाद कई तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं कि मानसिक रूप से विक्षिप्त होने वाली थ्योरी अब खारिज हो जाएगी। उसके बयानों से साफ दिख रहा है कि एक प्लान था और जिसका जिक्र उसने किया भी है। 

मुर्तजा ने  क्या कहा ?

गोरखपुर मंदिर में हमला के आरोपी अब्बास मुर्तजा ने कहा कि उस दिन कि घटना का जिक्र करते हुए कहा कि दोनों सामान लेकर हम टैप्पों में चढ़े। 400-500 रुपये का सामान था। उसने हमसे कहा कि तुम्हें गोरखपुर पहुंचा देंगे। सोच रहा था हम भी चले जाएंगे। थोड़ा हमारा भी काम हो जाएगा। अपने बारे में भी हम सोच रहे थे। बहुत  सारे एंगल से सोच रहे थे। ये क्यों करना है। देखो सीएए-एनआरसी भी हो रहा है। मुर्तजा ने कहा कि कोई काम करने से पहले उसकी वजह भी तो होनी चाहिए। तो मैं खुद को समझा रहा था कि देखों मुसलमानों के साथ जुल्म हो रहा है।  मुर्तजा ने कहा कि मैं सोच रहा था कि अब बदला नहीं लूंगा तो कब लूंगा। 

इसे भी पढ़ें: आतंकियों के निशाने पर Gorakhnath Mandir! हमले की जांच में जुटी Police का बड़ा दावा

गौरतलब है कि मुर्तजा अब्बासी ने रविवार की शाम गोरखनाथ मंदिर परिसर में दाखिल होने की कोशिश की थी। जब सुरक्षाकर्मियों ने उसे रोकने का प्रयास किया तो उसने धारदार हथियार से हमला कर पीएसी के दो जवानों को घायल कर दिया था। हालांकि अन्य सुरक्षाकर्मियों ने उसे फौरन पकड़ लिया और हमले में इस्तेमाल किया गया धारदार हथियार जब्त कर लिया था। वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने दावा किया कि पकड़ा गया अभियुक्त केमिकल इंजीनियर है और उसने अपने लैपटॉप पर मुस्लिम कट्टरपंथियों के भाषण देखे थे। जांचकर्ताओं ने उसका लैपटॉप और मोबाइल फोन जब्त कर लिया है ताकि डिजिटल सुबूत इकट्ठा किये जा सकें। इस मामले की जांच उत्तर प्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स और एटीएस की संयुक्त टीम कर रही है।  

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़