नाना पटोले की मांग, महाराष्ट्र का अपमान करने वाले राज्यपाल कोश्यारी को वापस बुलाए केंद्र सरकार

nana patole
ANI
राज्यपाल कोश्यारी के विवादित बयान पर संज्ञान लेते हुए कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले ने आगे कहा कि मुंबई की आर्थिक राजधानी के बारे में राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी का बयान बेहद अपमानजनक है। उन्हें बोलने से पहले ठीक से अध्ययन करना चाहिए। कोश्यारी को पता होना चाहिए कि महाराष्ट्र ने गुजराती और राजस्थानी समाज को क्या दिया है।

महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने मुंबई को लेकर बेवजह बयानबाजी कर मुंबई समेत पूरे महाराष्ट्र का अपमान किया है। उन्हें यह नहीं भूलना चाहिए कि मुंबई के निर्माण में मराठी लोगों ने सबसे अधिक योगदान दिया है, लेकिन कोश्यारी बिना पर्याप्त जानकारी के इस तरह के बयान देकर छत्रपति शिवाजी महाराज के महाराष्ट्र का अपमान कर रहे है। राज्यपाल को अपने इस बयान के लिए राज्य की जनता से माफी मांगनी चाहिए। राज्यपाल से यह मांग प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले ने की है। उन्होंने कहा कि इस तरह के गैर जिम्मेदार बयान  देने  के लिए महामहिम राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री को कड़ा फैसला लेते हुए कोश्यारी को राज्यपाल के पद से हटा देना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: विवादित बयान पर राज्यपाल कोश्यारी ने दी सफाई, उद्धव बोले- उन्होंने मराठियों का किया अपमान

राज्यपाल कोश्यारी के विवादित बयान पर संज्ञान लेते हुए कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले ने आगे कहा कि मुंबई की आर्थिक राजधानी के बारे में राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी का बयान बेहद अपमानजनक है। उन्हें बोलने से पहले ठीक से अध्ययन करना चाहिए। कोश्यारी को पता होना चाहिए कि महाराष्ट्र ने गुजराती और राजस्थानी समाज को क्या दिया है। अडानी, अंबानी समेत कई अन्य उद्योगपतियों को कामयाब बनाने में मुंबई और महाराष्ट्र का एक बड़ा योगदान है। राज्यपाल का पद सम्मान और प्रतिष्ठा का है लेकिन कोश्यारी ने इस पद की छवि धूमिल की है।

इसे भी पढ़ें: 'गुजराती-राजस्थानी...' वाले बयान पर बवाल, सुप्रिया सुले ने राज्यपाल को हटाने की मांग करते हुए कहा- महाराष्ट्र में कलह पैदा करने की हो रही साजिश

पटोले ने कहा कि इससे पहले कोश्यारी ने महाराष्ट्र के गौरव और देवता के समान पूजे जाने वाले छत्रपति शिवाजी महाराज, महात्मा ज्योतिबा फुले, सावित्रीबाई फुले के बारे में बहुत ही भद्दे बयान देकर हमारे महान विभूतियों का अपमान किया है। राज्यपाल कोश्यारी का रुख हमेशा से महाराष्ट्र विरोधी रहा है। वह राज्यपाल के पद पर रहते हुए लगातार गैरजिम्मेदाराना बयान देते रहे हैं लेकिन अब उन्होंने सारी हद पार कर दी है। हम राज्यपाल की प्रतिष्ठा जानते हैं लेकिन उस पद आसीन व्यक्ति को उस पद की  प्रतिष्ठा को बनाए रखना चाहिए।  हालांकि दुर्भाग्य से कोश्यारी के मामले में ऐसा नहीं हो रहा है। पटोले ने कहा कि हम महामहिम राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से यह मांग करते हैं कि वे राज्यपाल कोश्यारी के बयान पर ध्यान दें और उन्हें वापस बुलाएं।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़