'गुजराती-राजस्थानी...' वाले बयान पर बवाल, सुप्रिया सुले ने राज्यपाल को हटाने की मांग करते हुए कहा- महाराष्ट्र में कलह पैदा करने की हो रही साजिश

supriya sule
ANI
अभिनय आकाश । Jul 30, 2022 1:39PM
एनसीपी नेता ने कहा कि राज्यपाल एक संवैधानिक पद है। उनके बारे में बात करना गलत है। लेकिन राज्यपाल लगातार महाराष्ट्र का अपमान कर रहे हैं। वे समाज में कलह पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं। अनेकता में एकता ही भारत की पहचान है।

महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने कहा कि अगर मुंबई से गुजरातियों और राजस्थानियों को हटा दिया जाए तो शहर के पास न तो पैसे रहेंगे और न ही वित्तीय राजधानी का तमगा। उनके इस बयान पर तरह-तरह के स्तर से नाराजगी भरी प्रतिक्रियाएं आ रही हैं। राकांपा सांसद सुप्रिया सुले ने भी उनके बयान की निंदा की और राज्यपाल की कड़ी आलोचना की है। सुप्रिया सुले ने कहा है कि महाराष्ट्र में कलह पैदा करने की राज्यपाल की साजिश है। सुप्रिया सुले ने उन्हें इस पद से हटाने की भी मांग की है।

इसे भी पढ़ें: 'निष्ठा यात्रा' के दौरान चांदीवली में सभा कर रहे थे आदित्य, तभी होने लगी अजान और फिर...

सुप्रिया सुले ने क्या कहा ?

एनसीपी नेता ने कहा कि राज्यपाल एक संवैधानिक पद है। उनके बारे में बात करना गलत है। लेकिन राज्यपाल लगातार महाराष्ट्र का अपमान कर रहे हैं। वे समाज में कलह पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं। अनेकता में एकता ही भारत की पहचान है। हालांकि राज्यपाल लगातार समाज में कलह पैदा करने की साजिश रच रहे हैं। सुप्रिया सुले ने आलोचना की है कि महाराष्ट्र में नमक डालकर कड़वाहट बढ़ाने का यह तरीका है। उन्होंने यह भी कहा कि वह इस बारे में संसद में आवाज उठाएंगी।

इसे भी पढ़ें: भगत सिंह कोश्यारी का बयान, '...तो महाराष्ट्र में नहीं बचेगा पैसा', शिवसेना बोली- राज्यपाल ने किया शिवाजी का अपमान

सुप्रिया सुले ने यह भी मांग की कि उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को राज्यपाल के बयानों पर प्रतिक्रिया देनी चाहिए। देवेंद्र फडणवीस को राज्यपाल के बयान पर अपनी राय रखनी चाहिए। यह महाराष्ट्र का अपमान है। इसका जवाब फडणवीस को देना चाहिए। उन्होंने कहा कि महत्वपूर्ण बात यह है कि राज्यपाल को उसी राज्य में वापस भेजा जाना चाहिए, जहां से वह आए हैं, क्योंकि महाराष्ट्र के प्रति नफरत राज्यपाल के बयान से स्पष्ट है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़