यूपी चुनाव में अपनी किस्मत आजमाएगी एनसीपी, समाजवादी पार्टी के साथ करेगी गठबंधन

यूपी चुनाव में अपनी किस्मत आजमाएगी एनसीपी, समाजवादी पार्टी के साथ करेगी गठबंधन

पार्टी सूत्रों से लगातार यह जानकारी मिल रही है। पार्टी के एक नेता ने बताया कि उत्तर प्रदेश का हाल बुरा है। इसे सुधारना होगा। यही कारण है कि हम समाजवादी पार्टी के साथ मिलकर चुनाव लड़ेंगे।

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर सभी पार्टियों ने अपनी तैयारी शुरू कर दी है। इन सबके बीच महाराष्ट्र की पार्टी राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी उत्तर प्रदेश में अपनी दस्तक देने की तैयारी में है। सूत्रों के मुताबिक उत्तर प्रदेश के 2022 चुनाव में समाजवादी पार्टी और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के बीच गठबंधन हो सकता है। पार्टी सूत्रों से लगातार यह जानकारी मिल रही है। पार्टी के एक नेता ने बताया कि उत्तर प्रदेश का हाल बुरा है। इसे सुधारना होगा। यही कारण है कि हम समाजवादी पार्टी के साथ मिलकर चुनाव लड़ेंगे।

इसे भी पढ़ें: प्रधानमंत्री मोदी का 30 जुलाई का सिद्धार्थनगर दौरा स्थगित, जानें क्यों रद्द हुआ कार्यक्रम

उत्तर प्रदेश के राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के महासचिव केके शर्मा और प्रदेश अध्यक्ष उमाशंकर यादव ने कहा गठबंधन को लेकर अखिलेश यादव से बातचीत हो गई है। अब केवल सीटों का चयन होना है। इन लोगों ने कहा कि शरद पवार ने साफ तौर पर निर्देश दिया है कि उत्तर प्रदेश में एनसीपी को युवाओं और किसानों की आवाज उठानी है। भाजपा सरकार लोकतंत्र के लिए खतरा पैदा कर रही हैं। जो भाजपा की सरकार के खिलाफ आवाज उठा रहा है उसे दबाया जा रहा है।

इसे भी पढ़ें: योगी आदित्यनाथ के अत्याचार से अति पिछड़े वर्ग के लोगों में भारी गुस्सा : संजय सिंह

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव पहले ही साफ कर चुके हैं कि वह बड़े दलों के साथ गठबंधन नहीं करेंगे। लेकिन उत्तर प्रदेश में जो फिलहाल छोटी भूमिका में दल हैं उन से गठबंधन करेंगे। ऐसे में समाजवादी पार्टी और एनसीपी के बीच गठबंधन होता है तो जाहिर सी बात है कि सपा खुद को मजबूत स्थिति में ला सकती है। हालांकि देखने वाली बात तो यह भी होगी कि एनसीपी सपा को कितना फायदा पहुंचा पाती है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।