31 मार्च को होगा 'भारतबोध का नया समय' का लोकार्पण, इंदिरा गांधी कला केंद्र में आयोजित होगा कार्यक्रम

31 मार्च को होगा 'भारतबोध का नया समय' का लोकार्पण, इंदिरा गांधी कला केंद्र में आयोजित होगा कार्यक्रम

समारोह की अध्यक्षता इंदिरा गांधी कला केंद्र के सदस्य सचिव डॉ. सच्चिदानंद जोशी करेंगे एवं दिल्ली विश्वविद्यालय के हिंदी विभाग में वरिष्ठ आचार्य प्रो. कुमुद शर्मा मुख्य वक्ता के रूप में कार्यक्रम में शामिल होंगी। समारोह के विशिष्ट अतिथि इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. नागेश्वर राव और वरिष्ठ पत्रकार एवं लेखक अनंत विजय होंगे।

नई दिल्ली। देश के प्रख्यात पत्रकार एवं भारतीय जन संचार संस्थान, नई दिल्ली के महानिदेशक प्रो. संजय द्विवेदी की नई पुस्तक 'भारतबोध का नया समय' का लोकार्पण गुरुवार, 31 मार्च को सायं 4 बजे नई दिल्ली में किया जाएगा। इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि भारत सरकार के सूचना आयुक्त उदय माहुरकर होंगे। समारोह की अध्यक्षता इंदिरा गांधी कला केंद्र के सदस्य सचिव डॉ. सच्चिदानंद जोशी करेंगे एवं दिल्ली विश्वविद्यालय के हिंदी विभाग में वरिष्ठ आचार्य प्रो. कुमुद शर्मा मुख्य वक्ता के रूप में कार्यक्रम में शामिल होंगी। समारोह के विशिष्ट अतिथि इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. नागेश्वर राव और वरिष्ठ पत्रकार एवं लेखक अनंत विजय होंगे। कार्यक्रम कला केंद्र के जनपथ होटल स्थित समवेत सभागार में आयोजित किया जाएगा।

इसे भी पढ़ें: 'प्रवासी देशों में राम' विषय पर आयोजित अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी का समापन

इंदिरा गांधी कला केंद्र के डीन एवं विभागाध्यक्ष प्रो. रमेश चंद्र गौड़ ने बताया कि प्रो. संजय द्विवेदी की पुस्तक 'भारतबोध का नया समय' नए भारत से हमारा परिचय कराती है। एक ऐसा भारत, जिसका सपना हमारे राष्ट्रनायकों ने देखा था। अपनी संस्कृति को लेकर लोगों में जो हीनताबोध है, इस पुस्तक के माध्यम से उसे दूर करने का प्रयास किया गया है। प्रो. गौड़ के अनुसार पुस्तक के लेखक प्रो. संजय द्विवेदी मीडिया प्राध्यापक, अकादमिक प्रबंधक एवं संचार विशेषज्ञ हैं। डेढ़ दशक से अधिक के अपने पत्रकारिता करियर के दौरान वह विभिन्न मीडिया संगठनों में महत्वपूर्ण जिम्मेदारियों का निर्वहन कर चुके हैं। प्रो. द्विवेदी माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, भोपाल के प्रभारी कुलपति भी रहे हैं। वह कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय, रायपुर में पत्रकारिता विभाग के संस्थापक अध्यक्ष भी रह चुके हैं।

इसे भी पढ़ें: अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी में बोले केरल के राज्यपाल, भारतीय संस्कृति के प्रतिनिधि हैं राम

प्रो. द्विवेदी वर्तमान में भारतीय फिल्म एवं टेलीविजन संस्थान (एफटीआईआई), पुणे की सोसायटी एवं गवर्निंग काउंसिल के सदस्य हैं। उन्होंने 26 पुस्तकों का लेखन एवं संपादन किया है। वह विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) द्वारा अनुमोदित शोध पत्रिकाओं 'कम्युनिकेटर' एवं 'संचार माध्यम' के प्रधान संपादक हैं। मीडिया क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए उन्हें विभिन्न पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।