पुडुचेरी के निकट पहुंचा ‘निवार’, कमजोर होकर भीषण चक्रवात में हुआ तब्दील

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 26, 2020   13:38
पुडुचेरी के निकट पहुंचा ‘निवार’, कमजोर होकर भीषण चक्रवात में हुआ तब्दील

मौसम विज्ञान विभाग के आंकड़ों के अनुसार पुडुचेरी में 30 सेमी, तमिलनाडु के कडलूर में 27 सेमी, नागपट्टिनम में 6.3 सेमी, कराईकल में 9.6 सेमी और चेन्नई में 11.3 सेमी बारिश दर्ज की गई।

चेन्नई। प्रचंड चक्रवाती तूफान ‘निवार’ बृहस्पतिवार तड़के पुडुचेरी के निकट पहुंचा, जिससे केन्द्र शासित प्रदेश और पड़ोसी राज्य तमिलनाडु में भारी बारिश हुई। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने यह जानकारी दी। आईएमडी ने बताया कि ‘निवार’ पुडुचेरी के पास तट से गुजरने के बाद कमजोर होकर भीषण चक्रवाती तूफान में तब्दील हो गया है। अधिकारियों ने बताया कि चक्रवात से तमिलनाडु और पुडुचेरी दोनों जगह किसी के हताहत होने की कोई खबर नहीं है। हालांकि कई स्थानों पर पेड़ों के गिरने की खबर मिली है। वहीं उपनगरीय मुदिचुर सहित इनके कई क्षेत्रों में बाढ़ की स्थिति देखी गई। मौसम विज्ञान विभाग के आंकड़ों के अनुसार पुडुचेरी में 30 सेमी, तमिलनाडु के कडलूर में 27 सेमी, नागपट्टिनम में 6.3 सेमी, कराईकल में 9.6 सेमी और चेन्नई में 11.3 सेमी बारिश दर्ज की गई। केन्द्रीय मंत्री अमित शाह ने ट्वीट किया, ‘‘ हम तमिलनाडु और पुडुचेरी में चक्रवात ‘निवार’ की स्थिति पर करीबी नजर बनाए हैं। तमिलनाडु और पुडुचेरी के मुख्यमंत्री से बात की और उन्हें केन्द्र की ओर से हरसंभव मदद का आश्वासन दिया है। एनडीआरएफ के दल लोगों की मदद के लिए पहले ही मौके पर मौजूद हैं।’’ अधिकारियों ने बताया कि अधिकतर तटीय इलाके में बिजली नहीं है और उसे बहाल करने का काम जारी है। बारिश के कारण जिन इलाकों में पानी भर गया है, उसे भी निकाला जा रहा है। पुडुचेरी के मुख्यमंत्री वी नारायणसामी ने कहा कि किसी के हताहत होने की कोई खबर नहीं है। नौकाओं और जालों (मछली पकड़ने के) को पहुंचे नुकसान के बारे में बाद में ही पता चल पाएगा। 

इसे भी पढ़ें: चक्रवाती तूफ़ान निवार को लेकर गृह मंत्री शाह ने तमिलनाडु व पुडुचेरी के मुख्यमंत्रियों को हर मदद का दिया आश्वासन

तमिलनाडु के राजस्व मंत्री आर. बी. उदयकुमार ने पहले बताया था कि चक्रवात की वजह से किसी के हताहत होने की कोई खबर नहीं है। कई पेड़ जरूर टूटे हैं और तमिलनाडु के कई हिस्सों में दीवारें गिरने की घटनाएं भी सामने आई हैं। इससे पहले आईएमडी ने कहा था कि तूफान के पुडुचेरी के पास तट से गुजरते समय, 120-130 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं, जो बढ़कर 145 किलोमीटर प्रति घंटा भी हो सकती है। ‘निवार’ बुधवार देर रात यहां पहुंचने लगा था। मौसम विज्ञान विभाग ने ट्वीट किया, ‘‘ प्रचंड चक्रवाती तूफान ‘निवार’ 25 नवम्बर रात साढ़े 11 बजे से 26 नवम्बर तड़के ढाई बजे पुडुचेरी के पास एक तट से गुजरा।’’ एक अन्य ट्वीट में उसने कहा, ‘‘ प्रचंड चक्रवाती तूफान ‘निवार’ , कमजोर होकर भीषण चक्रवाती तूफान में तब्दील हो गया है।’’ चेन्नई के मौसम विज्ञान केन्द्र के उप महानिदेशक एस. बालचंद्रन ने बताया कि तमिलनाडु में अभी बारिश जारी रहने का अनुमान है। उन्होंने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा, ‘‘ तूफान अब मैदानी इलाके में है। वहां बारिश और तेज हवाएं चलनी जारी रहेंगी।’’ उन्होंने बताया कि अगले छह घंटों में भीषण चक्रवाती तूफान और कमजोर हो जाएगा। उदयकुमार ने बताया कि किसी के हताहत होने या फसलों को नुकसान पहुंचने की कोई खबर नहीं है। उन्होंने कहा, ‘‘ बारिश से कोई हताहत नहीं हुआ है। लोगों ने हमें पूरा सहयोग दिया।’’ उन्होंने बताया कि कई जगह से दीवार गिरने की खबर जरूर मिली हैं। उदयकुमार ने कहा, ‘‘ यह एक बड़ी राहत है कि कोई अप्रिय घटना नहीं हुई और तूफान का कमजोर पड़ना भी एक अच्छी खबर है।’’ मंत्री ने बताया कि सुरक्षा उपायों के तहत तमिलनाडु में करीब 2.5 लाख लोगों को राहत शिविरों में रखा गया है। उदयकुमार ने पत्रकारों को बताया कि अभी तक मिली रिपोर्ट के अनुसार राज्य में फसलें और उपवन भी सुरक्षित हैं। उन्होंने बताया कि हालांकि स्थिति का आकलन किया जाएगा और उसके आधार पर मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी किसानों के लिए मुआवजे और बीमा भुगतान का एलान करेंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।