कांग्रेस विधायकों के टीएमसी में शामिल होने में कोई अनियमितता नहीं: मेघालय विस अध्यक्ष

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 26, 2021   09:07
कांग्रेस विधायकों के टीएमसी में शामिल होने में कोई अनियमितता नहीं: मेघालय विस अध्यक्ष

लिंगदोह ने यहां पत्रकारों से कहा, ‘‘मुझे उनका पत्र मिला है और मैं इसकी जांच पड़ताल कर रहा हूं। जो भी करने की जरूरत है वह जल्द से जल्द किया जाएगा।’’

शिलांग| मेघालय विधानसभा अध्यक्ष एम. लिंगदोह ने बृहस्पतिवार को कहा कि वह राज्य के 17 कांग्रेस विधायकों में से 12 द्वारा लिखे गए पत्र की जांच पड़ताल कर रहे हैं जिसमें उन्हें सूचित किया गया है कि वे तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) में शामिल हो गए हैं और इस मामले में कोई अनियमितता नहीं है।

लिंगदोह ने कहा कि उन्हें टीएमसी के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी का भी एक पत्र भी मिला है, जिन्होंने 12 विधायकों को अपनी पार्टी के सदस्यों के रूप में मान्यता दी है।

इसे भी पढ़ें: केंद्रीय मंत्री ने पूर्वोत्तर फ्रंटियर रेलवे की परियोजनाओं की समीक्षा की

लिंगदोह ने यहां पत्रकारों से कहा, ‘‘मुझे उनका पत्र मिला है और मैं इसकी जांच पड़ताल कर रहा हूं। जो भी करने की जरूरत है वह जल्द से जल्द किया जाएगा।’’

विपक्ष के नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री मुकुल संगमा, पूर्व विधानसभा अध्यक्ष चार्ल्स पिनग्रोप और 10 अन्य विधायकों ने बृहस्पतिवार को ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली पार्टी टीएमसी में शामिल होने की घोषणा की।

बारह कांग्रेसी विधायकों के टीएमसी में शामिल होने से तृणमूल कांग्रेस मेघालय में मुख्य विपक्षी पार्टी बन गई है। विधानसभा अध्यक्ष ने उनके टीएमसी में शामिल होने में किसी भी तरह की अनियमितता से इनकार किया।

इसे भी पढ़ें: संप्रभुता के मुद्दे पर रुख अलग होने के बावजूद उल्फा के साथ बातचीत की प्रक्रिया जारी: सरमा

लिंगदोह ने कहा कि उन्हें दो पत्र मिले हैं - एक कांग्रेस विधायकों से और दूसरा टीएमसी से।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।