अब इंडिया गेट नहीं, बल्कि नेशनल वॉर मेमोरियल में जलेगी अमर जवान ज्योति की मशाल की लौ

अब इंडिया गेट नहीं, बल्कि नेशनल वॉर मेमोरियल में जलेगी अमर जवान ज्योति की मशाल की लौ

शहीदों को सच्ची श्रद्धांजलि देने और देश के प्रति उनके बलिदान को याद रखने के लिए अब नेशनल वॉर मेमोरियल पर ही यह मशाल जलती रहेगी। अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के मौके पर शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए नेशनल वॉर मेमोरियल जाएंगे।

दिल्ली के इंडिया गेट के पास बने अमर जवान ज्योति की मशाल में जलती लौ हम सबको राष्ट्रभक्ति से ओतप्रोत करती रही हैं। हालांकि, इसको लेकर अब एक बड़ी खबर आ रही है। जानकारी के मुताबिक अब अमर जवान ज्योति की मशाल इंडिया गेट के पास नहीं जलेगी। मिल रही जानकारी के मुताबिक 21 जनवरी को एक समारोह में अमर जवान ज्योति की मशाल को नेशनल वॉर मेमोरियल की लौ में मिला दी जाएगी। इसके साथ ही इंडिया गेट के पास अमर जवान ज्योति की लौ हमेशा के लिए बंद हो जाएगी।

शहीदों को सच्ची श्रद्धांजलि देने और देश के प्रति उनके बलिदान को याद रखने के लिए अब नेशनल वॉर मेमोरियल पर ही यह मशाल जलती रहेगी। अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के मौके पर शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए नेशनल वॉर मेमोरियल जाएंगे। अब तक प्रधानमंत्री इसके लिए इंडिया गेट जाते रहे हैं। आपको बता दें कि करीब 3 साल पहले ही नेशनल वॉर मेमोरियल बनकर तैयार हुआ है। नेशनल वॉर मेमोरियल को 40 एकड़ जमीन पर 176 करोड़ रुपये की लागत से बनाया गया है।

इसे भी पढ़ें: PoK के रास्ते घुसपैठ की फिराक में आतंकवादी, LoC और IB में सेना ने बढ़ाई निगरानी

आपके लिए यह जानना भी जरूरी है कि 1971 से इंडिया गेट के अमर जवान ज्योति पर यह मशाल की लौ जलती आ रही है। पहले विश्व युद्ध के बाद ब्रिटिश सरकार ने भारतीय सैनिकों की याद में इंडिया गेट को बनवाया था। तो कुल मिलाकर देखें तो 21 जनवरी को अमर जवान ज्योति की लौ राष्ट्रीय वॉर मेमोरियल की मशाल के साथ विलीन हो जाएगी। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।