नर्स एसोसिएशन ने शिवराज सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा, कांग्रेस ने ली चुटकी

नर्स एसोसिएशन ने शिवराज सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा, कांग्रेस ने ली चुटकी

भोपाल की करीब 400 नर्सेस कामबंद करेंगी। नर्सेस विभागीय प्रांतीय समिति ने हड़ताल से अपने आप को अलग रखा है। हड़ताल के चलते अस्पताल प्रबंधन ने नर्सिंग छात्राओं की ड्यूटी लगाई है।

भोपाल। मध्य प्रदेश में अपनी मांगों को लेकर नर्सेस ने सीधे प्रदेश की शिवराज सिंह चौहान सरकार के खिलाफ मोर्चा खोला है। नर्सेस  अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चली गई हैं। राजधानी भोपाल, ग्वालियर, इंदौर में इस हड़ताल का असर दिख रहा है। जिसके चलते अस्पतालों में मरीजों को परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

बता दें कि भोपाल की करीब 400 नर्सेस काम बंद करेंगी। नर्सेस विभागीय प्रांतीय समिति ने हड़ताल से अपने आप को अलग रखा है। हड़ताल के चलते अस्पताल प्रबंधन ने नर्सिंग छात्राओं की ड्यूटी लगाई है। इसके इलावा कोरोना काल में तैनात स्टाफ भी ड्यूटी पर रहेंगे।

इसे भी पढ़ें:धरने पर बैठी आशा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने किया गिरफ्तार, जेल के बाहर भी चालू है हड़ताल 

वहीं ग्वालियर में नर्सेस की हड़ताल कर रही हैं। जिले के मेडिकल कॉलेज, जिला अस्पातल की नर्सेस हड़ताल पर चली गई हैं। मध्य प्रदेश नर्सेस एसोसिएशन के बैनर पर हड़ताल हो रही है। इसके साथ ही इंदौर में भी नर्सेस एसोसिएशन की हड़ताल का असर दिख रहा है। बताया जा रहा है कि नर्सेस अपनी 10 सूत्री मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चली गई हैं।

इसे लेकर कांग्रेस ने ट्वीट कर कहा, “मध्य प्रदेश में आज नर्सों की हड़ताल, कोरोना योद्धाओं को भी नहीं बख्शा शिवराज ने; जूनियर डॉक्टरों एवं एएनएम/आशा कार्यकर्ताओं के बाद अब भोपाल की नर्सों को भी अपनी जायज़ मांगों के लिये हड़ताल पर जाना पड़ रहा है। शिवराज जी, महामारी में सेवा का इतना कड़वा फल ? “शवराज का जंगलराज”





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।