भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा पर CM पटनायक ने PM मोदी से की बात, हर साल लगभग 10 लाख श्रद्धालु उत्सव के लिए होते हैं एकत्र

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 25, 2020   11:07
भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा पर CM पटनायक ने PM मोदी से की बात, हर साल लगभग 10 लाख श्रद्धालु उत्सव के लिए होते हैं एकत्र

‘‘जगन्नाथ संस्कृति’’ के शोधकर्ता भास्कर मिश्रा ने बताया कि यह वार्षिक रथ यात्रा 1736 से लगातार होती आ रही है। ओडिशा के विपक्षी दलों - कांग्रेस और भाजपा - ने राज्य सरकार से आग्रह किया है कि वह रथ यात्रा के संबंध में जल्द से जल्द निर्णय ले।

भुवनेश्वर। ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने पुरी में भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा के इस वर्ष आयोजन के संबंध में शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ चर्चा की। कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने से रोकने के लिए लागू लॉकडाउन की वजह से सदियों पुराने इस धार्मिक आयोजन को लेकर अनिश्चितता की स्थिति बनी हुयी है। मुख्यमंत्री कार्यालय के एक सूत्र ने बताया, मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को सुबह प्रधानमंत्री से फोन पर बातचीत की और भगवान जगन्नाथ की वार्षिक रथ यात्रा के आयोजन के बारे में चर्चा की। उन्होंने कहा, “उन्होंने इस बात पर चर्चा की कि जब इतनी बड़ी संख्या में लोग उत्सव में जुटेंगे तो सामाजिक दूरी को कैसे बरकरार रखा जाएगा।”पटनायक ने प्रधानमंत्री को यह भी बताया कि हर साल लगभग 10 लाख श्रद्धालु यह उत्सव मनाने के लिए पुरी में एकत्र होते हैं।

इसे भी पढ़ें: कोविड-19 के कारण अब तक 775 की मौत, कुल 24,506 व्यक्ति हुए संक्रमित: स्वास्थ्य मंत्रालय

श्री जगन्नाथ मंदिर प्रबंधन समिति के प्रमुख गजपति महाराज दिव्य सिंह देव ने इस बीच कहा कि 23 जून को होने वाले इस वार्षिक आयोजन के बारे कोई भी फैसला तीन मई को लॉकडाउन खत्म होने के बाद जारी दिशानिर्देशों को ध्यान में रखकर लिया जाएगा। पटनायक और मोदी के बीच फोन पर वार्ता के बाद समिति ने एक आपात बैठक में रथयात्रा से संबंधित मुद्दों पर चर्चा की। गजपति महाराज ने एक वीडियो संदेश में कहा, “समिति के सदस्यों ने एक सुर में कहा कि 12 शताब्दी का मंदिर केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा जारी बंद के दिशानिर्देशों का पालन करेगा। इसलिये मंदिर के बाहर होने वाली सभी गतिविधियों तीन मई से पहले नहीं होंगी।” 

इसे भी पढ़ें: कोरोना वायरस: ओडिशा में पांच और व्यक्ति संक्रमित पाए गए, कुल मामले 94 हुए

‘‘जगन्नाथ संस्कृति’’ के शोधकर्ता भास्कर मिश्रा ने बताया कि यह वार्षिक रथ यात्रा 1736 से लगातार होती आ रही है। ओडिशा के विपक्षी दलों - कांग्रेस और भाजपा - ने राज्य सरकार से आग्रह किया है कि वह रथ यात्रा के संबंध में जल्द से जल्द निर्णय ले। तय कार्यक्रम के अनुसार, रथों के निर्माण का काम 26 अप्रैल से शुरू होना चाहिए जबकि प्रसिद्ध स्नान यात्रा जून की शुरुआत में होगी। पुरी में 12 वीं सदी का मंदिर श्रद्धालुओं के लिए 22 मार्च से बंद है, हालांकि पुजारी हमेशा की तरह मंदिर में अनुष्ठान कर रहे हैं। पटनायक ने ओडिशा में कोविड-19 की स्थिति से प्रधानमंत्री को अवगत कराया। राज्य में अब तक कोरोना वायरस के 90 मामले सामने आए हैं जबकि 33 मरीज ठीक हो चुके हैं। वहीं एक मरीज की मौत हो गयी है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।